ताज़ा खबर
 

मनोहर लाल खट्टर के कदम से भाजपा-जजपा में पड़ सकती है दरार! डिप्टी सीएम की मर्जी के खिलाफ सीएम ने दिए विजिलेंस जांच के संकेत

सीएम खट्टर ने कहा कि 'यह मायने नहीं रखता है कि कौन इस पर सहमत है और कौन नहीं....भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा।'

Author Translated By नितिन गौतम चंडीगढ़ | Updated: August 9, 2020 11:41 AM
manohar lal khattar haryana liquor smuggling case dushyant chautala anil vijमनोहर लाल खट्टर ने अनिल विज का समर्थन करते हुए शराब तस्करी के मामले की जांच के संकेत दिए है। (फाइल)

हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला द्वारा शराब तस्करी के मामले में एसईटी की जांच को खारिज किए जाने के एक दिन बाद ही सीएम मनोहर लाल खट्टर ने संकेत दिए हैं कि वह गृह मंत्री अनिल विज की सिफारिश मानेंगे और इस मामले में विजिलेंस जांच कराएंगे। फरीदाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम खट्टर ने कहा कि ‘यह मायने नहीं रखता है कि कौन इस पर सहमत है और कौन नहीं….भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा।’

सीएम खट्टर ने कहा कि “जो भी सरकार ने काम किया है, यह एक सिस्टम के तहत और ढांचे के तहत किया गया है। हमें मिली शिकायतों के आधार पर एसईटी का गठन किया गया था। तय समय में एसईटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है और अब गृह मंत्रालय हमें सिफारिश भेजेगा, जिसके आधार पर आगे कार्रवाई की जाएगी।”

बता दें कि शराब तस्करी मामले में हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने जांच के लिए स्पेशल इन्क्वायरी टीम (एसईटी) की रिपोर्ट के आधार पर मामले की विजिलेंस जांच के निर्देश दिए थे। लेकिन एक्साइज विभाग के मंत्री और जजपा नेता डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने एसईटी की सिफारिशों को खारिज कर दिया था। उन्होंने कहा था कि गृह मंत्री को एक्साइज विभाग की भूमिका की जांच कराने से पहले पुलिस की कार्रवाई की जांच करानी चाहिए।

विपक्ष ने साधा निशानाः इनेलो विधायक और दुष्यंत चौटाला के चाचा अभय सिंह चौटाला ने शराब तस्करी के मुद्दे पर सरकार पर हमला बोला है। अभय चौटाला ने कहा कि ‘लॉकडाउन के दौरान शराब की 1.1 करोड़ बोतल शराब माफिया और सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत से बेची गईं। कई जिला एक्साइज और टैक्सेशन अधिकारियों ने एसईटी को इसकी जानकारी देने से इंकार कर दिया….एक्साइज मंत्री एक्साइज और टेक्सेशन कमिश्नर को क्लीन चिट दे रहे हैं, जो कि सीएम को एक चुनौती है।’

वहीं कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुडा ने शराब तस्करी के मामले में एसईटी के गठन को ड्रामा करार दिया है। हुडा ने मांग की कि इस मामले की जांच हाईकोर्ट के रिटार्यड जज से करायी जाए। गृह मंत्री और एक्साइज मंत्री एक दूसरे पर ऊंगली उठा रहे हैं। हुडा ने कहा कि मामले की जांच एसआईटी से कराने के बजाय एसईटी से करायी गई, जिसके पास कोई पावर भी नहीं थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना मरीजों के लिए हॉस्पिटल बनाए गए होटल में लगी भीषण आग, दस की मौत; राज्य सराकर ने परिजनों को 50-50 लाख देने की घोषणा की
2 अयोध्या: मस्जिद वाली जगह पर शिलान्यास के लिए योगी आदित्य नाथ को देंगे न्योता- ट्रस्ट ने किया एलान
3 पटना, रांची समेत आठ राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 13 जिलों में कोरोना से हर सात में से एक मौत, केंद्र ने दिए जांच बढ़ाने के निर्देश
IPL 2020 LIVE
X