scorecardresearch

बंगाल में Congress का साथ देगा लेफ्ट, बोले बिमान बोस- धार्मिक ध्रुवीकरण से बचाने को BJP, TMC के खिलाफ मिलकर लड़ेंगे

कांग्रेस और वामदलों ने बंगाल में 2016 का विधानसभा चुनाव साथ लड़ा था, हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने एकतरफा जीत हासिल की थी।

West Bengal, Congress-Left Alliance
बंगाल में लेफ्ट फ्रंट के अध्यक्ष बिमान बोस। (फोटो- PTI)

पश्चिम बंगाल में अब विधानसभा चुनाव होने में बेहद कम समय रह गया है। इस बीच राज्य में सभी पार्टियां और नेता अपने समीकरण बनाने की कोशिशों में जुट गए हैं। इसी के तहत लेफ्ट पार्टियों ने अब कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। बंगाल में लेफ्ट फ्रंट के अध्यक्ष बिमान बोस ने कहा है कि बंगाल को तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच धार्मिक ध्रुवीकरण से बचाने के लिए हम कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने ऐलान करते हुए कहा कि इसे लेकर हमारे और कांग्रेस के बीच कोई भ्रम नहीं है।

बिमान बोस ने आगे कहा, “हम चुनाव साथ लड़ेंगे, लेकिन अभी सीट बंटवारे पर दोनों पार्टियां बात कर रही हैं।” इससे पहले लोकसभा में कांग्रेस के नेता और बंगाल से ही सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “दोनों पार्टियों(कांग्रेस और लेफ्ट) ने नैतिकता के तौर पर मान लिया है कि एकजुट होकर चुनावी जंग छेड़नी है। हम मिलकर सारे राजनीतिक आंदोलन कर रहे हैं। सीट बंटवारे का मुद्दा अभी अंतिम चरण में नहीं पहुंचा है। दोनों पार्टियों को एहसास है कि हमें एक साथ लड़ना है।”

पहले भी कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने की बात कहता रहा है लेफ्ट: पश्चिम बंगाल में आगामी विधानसभा चुनाव के कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों में पहले भी बैठक हुई है। हालांकि, अब तक सीट बंटवारे पर बात नहीं बन पाई है। पिछले हफ्ते ही वाम मोर्चा और कांग्रेस ने फरवरी या मार्च में कोलकाता में संयुक्त रूप से एक विशाल रैली का आयोजन करने की बात कही थी। कांग्रेस के साथ बैठक के बाद तब बोस ने कहा कि सभी दलों ने संयुक्त रूप से ब्रिगेड परेड ग्राउंड में फरवरी या मार्च में एक महारैली करने का फैसला किया है।

बता दें कि कांग्रेस और वाम दलों ने 2016 का राज्य विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ा था, हालांकि बुरी तरह हार मिलने के बाद दोनों दल अलग हो गए। 2019 के लोकसभा चुनावों में दोनों पार्टियां अलग-अलग हो गई थीं। इसके बावजूद तृणमूल कांग्रेस की टक्कर में भाजपा आ गई, जिसने राज्य की 18 सीटों पर कब्जा जमाया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X