ताज़ा खबर
 

कोर्ट ने राजनीतिक दल पर लगाई डॉ. कलाम के नाम व तस्वीर के इस्तेमाल पर रोक

मद्रास हाई कोर्ट ने ‘अब्दुल कलाम विजन इंडिया पार्टी’ के पदाधिकारियों को दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का नाम और उनकी तस्वीरें इस्तेमाल करने से शुक्रवार को रोक दिया।

Author चेन्नई | May 7, 2016 8:11 AM
मद्रास हाईकोर्ट

मद्रास हाई कोर्ट ने ‘अब्दुल कलाम विजन इंडिया पार्टी’ के पदाधिकारियों को दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का नाम और उनकी तस्वीरें इस्तेमाल करने से शुक्रवार को रोक दिया।  कलाम के भाई एपीजे मोहम्मद मुत्थु मीरा मरैकयार की ओर से दायर दीवानी मुकदमे की सुनवाई करते हुए अवकाशकालीन न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस विमला ने कहा, ‘इस अदालत का मानना है कि प्रथम दृष्टया मामला बनता है।’

पीठ ने कहा, ‘इसलिए, मुकदमे में शामिल व्यापक नागरिक अधिकारों के बाबत अंतरिम रोक को मंजूरी दी जाती है, बचाव पक्ष को पार्टी के नाम या उनकी राजनीतिक पार्टी के झंडे या किसी अन्य राजनीतिक गतिविधि में डा. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम, शख्सियत या तस्वीर के इस्तेमाल से रोका जाता है।’ याचिकाकर्ता या वादी की ओर से दायर ज्ञापन पर भारत निर्वाचन आयोग और तमिलनाडु के मुख्य चुनाव आयुक्त के अंतिम फैसले तक यह आदेश प्रभावी रहेगा।

न्यायाधीश ने आदेश में कहा, ‘देश के किसी भी राष्ट्रपति के नाम या पद का इस्तेमाल किसी राजनीतिक पार्टी के नाम या प्रतीक के तौर पर नहीं किया जाता।’ अदालत ने कहा, ‘असल में डा. राजेंद्र प्रसाद से लेकर डा. प्रतिभा पाटिल तक किसी भी राष्ट्रपति ने अपने नाम का इस्तेमाल किसी भी राजनीतिक पार्टी के तौर पर करने की इजाजत नहीं दी और न ही उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा होने के बाद खुद को किसी राजनीतिक पार्टी से जोड़ा।’

न्यायाधीश ने कहा कि इसलिए एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से किसी राजनीतिक पार्टी का गठन पूर्व राष्ट्रपतियों की ओर से शुरू की गई परंपरा का उल्लंघन है। अब्दुल कलाम के सचिव के तौर पर काम कर चुके पोनराज ने एस कुमार और आर तिरुसेंदुरन के साथ 28 फरवरी को ‘अब्दुल कलाम विजन इंडिया पार्टी’ नाम की राजनीतिक पार्टी का गठन किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X