ताज़ा खबर
 

लातूर: अवैध VoIP टेलीफोन कॉल के जरिए सैन्य जानकारियां हासिल कर रही थी PAK की खुफिया एजेंसी, दो गिरफ्तार

कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए अवैध टेलीफोन कॉल और कथित रूप से इसका इस्तेमाल पाकिस्तान खुफिया एजेंसियों द्वारा संवदेनशील सैन्य जानकारियां हासिल में किए जाने का पता लातूर जिले में चला है।

Author June 18, 2017 3:18 PM
यह चित्र प्रतीक के तौर पर लिया गया है

कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए अवैध टेलीफोन कॉल और कथित रूप से इसका इस्तेमाल पाकिस्तान खुफिया एजेंसियों द्वारा संवदेनशील सैन्य जानकारियां हासिल में किए जाने का पता लातूर जिले में चला है। इस संबंध में दो लोगों शंकर बिरादर :33 साल: और रवि सब्दे :27साल: को गिरफ्तार किया गया है। टेलीफोन एक्सचेंज का पता महाराष्ट्र एटीएस, लातूर पुलिस और टेलीकम्यूनिकेशन विभाग के अधिकारियों के एक संयुक्त दल द्वारा जिले के तीन स्थानों पर छापे मारने के दौरान चला। दल को जम्मू-कश्मीर स्थित सैन्य खुफिया एजेंसी द्वारा इसकी सूचना मिली थी।

पुलिस स्रोतों के मुताबिक इस तरह के वीओआईपी(वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल) एक्सचेंज का उपयोग पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों द्वारा संवेदनशील सैन्य सूचनाएं हासिल करने के लिए किया जाता था। अधिकारी ने बताया कि ये एक्सचेंज जिले में पिछले छह महीने से प्रकाश नगर, देवनी तालुका और चाकुर तालुका क्षेत्रों में चल रहा था।

आरोपी को इंटरनेट पर ओवरसीज कॉल मिला करता था और वह इस वॉइस कॉल को भारत में प्राप्तकर्ता को अवैध अंतरराष्ट्रीय गेटवे की मदद से ट्रांसफर करता था। इसके लिए जो प्रणाली लगाई गई थी वह इंटरकनेक्टिंग इंटरनेटावीओआईपी और मोबाइल कनेक्शन है, जिसके इस्तेमाल की इजाजत भारतीय टेलीकॉम कानून नहीं देता है।

पुलिस ने बताया कि छापे के बाद 4,60,000 मूल्य वाले उपकरण जब्त किए गए हैं, ज्यादातर सामग्रियों को गिरफ्तार किए गए आरोपियों के परिसर से जब्त किया गया है। आरोपी शंकर प्रकाश नगर स्थित अपने घर से गैरकानूनी टेलीकम्यूनिकेशन जंक्शन चलाता था जबकि रवि चाकुर तालुका के किराए वाले कमरे से इसे चलाता था।

छापे के बाद शंकर के घर से 96 सीम कार्ड, एक कंप्यूटर, एक सीपीयू और तीन कॉल ट्रांसफोर्मिंग मशीन जब्त किया गया है। टेलीकम्यूनिकेशन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इन अवैध एक्सचेंज से देश को 15 करोड़ रूपये के राजस्व का नुकसान हुआ है। जिले के शिवाजी नगर और एमआईडीसी पुलिस स्टेशन में संबंधित धाराओं के तहत अपराध दर्ज कराया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App