scorecardresearch

अमित शाह के बिहार दौरे पर दिल्ली से बरसे लालू प्रसाद यादव, बोले- पगला गए हैं, नीतीश साथ में थे तो अच्छे थे

लालू प्रसाद यादव ने दिल्ली में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि बिहार में उनकी सरकार साफ हो गई और 2024 में भी उनका सफाया होने वाला है, इसलिए अमित शाह दौड़-दौड़ कर जा रहे हैं। बोल रहे हैं जंगलराज ये राज वो राज।

अमित शाह के बिहार दौरे पर दिल्ली से बरसे लालू प्रसाद यादव, बोले- पगला गए हैं, नीतीश साथ में थे तो अच्छे थे
आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (फोटो- द इंडियन एक्सप्रेस)

गृह मंत्री अमित शाह के बिहार दौरे को लेकर आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने हमला बोला है। उन्होंने कहा कि शाह पगला गए हैं क्योंकि बिहार में उनकी सरकार चली गई है। नीतीश के साथ थे तो अच्छे थे। लालू इन दिनों दिल्ली में हैं वह यहां विपक्षी दलों से मुलाकात कर 2024 के लोकसभा चुनाव की रणनीति तैयार करने में लगे हैं।

इस दौरान लालू से पत्रकारों ने अमित शाह के बिहार दौरे को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा, “वह इस समय पगलाए हुए हैं। बिहार में उनकी सरकार साफ हो गई और 2024 में भी उनका सफाया होने वाला है, इसलिए वह दौड़-दौड़ कर जा रहे हैं। बोल रहे हैं जंगलराज ये राज वो राज। जब खुद गुजरात में थे तो क्या किया था?”

अपने बिहार दौरे के दौरान अमित शाह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी को धोखा देकर अपने स्वार्थ के लिए वह लालू की गोद में बैठ गए। उन्होंने लालू प्रसाद यादव को आगाह किया कि ध्यान रखना, नीतीश बाबू कल को आपको छोड़कर कांग्रेस की गोद में बैठ जाएंगे।

शाह बिहार के दो दिवसीय दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने आज किशनगंज में एसएसबी की पांच सीमा चौकियों का उद्घाटन किया। शाह ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा, “एसएसबी के जवानों ने पूर्वोत्तर में व्याप्त नक्सलवाद के खिलाफ कड़ी लड़ाई लड़ी है। परिणामस्वरूप, बिहार और झारखंड क्षेत्रों में नक्सलवाद समाप्त होने की कगार पर है, हम यह भी कह सकते हैं कि यह समाप्त हो गया है।” गृह मंत्री ने कहा कि नेपाल और भूटान के साथ खुली सीमा के कारण एसएसबी की ड्यूटी सबसे कठिन है।”

नेपाल और भूटान के साथ हमारे रिश्ते अच्छे होने के कारण दिल्ली में बैठकर कोई यह सोच सकता है कि आपकी ड्यूटी मुश्लिक नहीं है, लेकिन जब बात बॉर्डर की हो तो यह एक कठिन ड्यूटी है क्योंकि ये सीमाएं खुली हुई हैं। इस वजह से जिम्मेदारी बढ़ जाती है। रिश्ते कितने भी दोस्ताना हों, भले ही पड़ोसी देशों के बुरे इरादे न हों, लेकिन समाज में कुछ ऐसे तत्व हैं जो तस्करी,पशु तस्करी या घुसपैठ के जरिए अनधिकृत कमाई के लिए खुली सीमाओं का उपयोग करते हैं।”

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 24-09-2022 at 11:08:05 pm