ताज़ा खबर
 

सीवरेज कार्य के दौरान हुआ दर्दनाक हादसा, मिट्टी में धंस जाने से 4 मजदूरों की हुई मौत

उदयपुर में सीवरेज कार्य के दौरान हुए एक हादसे में 4 मजदूरों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि मिट्टी में धंस जाने से अंदर ही फंस गए जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

Author उदयपुर | August 29, 2019 10:13 AM
rajasthanप्रतीकात्मक फोटो (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

राजस्थान के उदयपुर जिले में निर्माणाधीन सीवरेज कार्य के दौरान हुए हादसे में चार मजदूरों की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि मृतकों की पहचान सुपरवाइजर कान सिंह (22), कैलाश मीणा (18), जेसीबी चालक धर्मचंद मीणा और ट्रैक्टर चालक प्रहलात मीणा के रूप में की गई है। यह घटना हिरणमगरी थाना क्षेत्र में बुधवार (28 अगस्त) को हुई है। पुलिस ने लाशों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच शुरु कर दी है।

क्या है पूरा मामलाः इस मामले में पुलिस ने बताया कि मनवाखेड़ा स्कूल के पास स्मार्ट सिटी के तहत सीवरेज का काम चल रहा है। इसके लिए दो श्रमिक कार्य के लिए सीवरेज लाइन में उतरे थे। कार्य के दौरान अचानक दोनों मजदूरों के मिट्टी में धंस जाने से वे अंदर ही फंस गए। उन्होंने बताया कि इस दौरान कोई हलचल नहीं होने पर दो अन्य मजदूर उनके बचाव में सीवरेज लाइन में उतरे लेकिन वो भी अंदर ही फंस गए।

National Hindi Khabar, 29 August 2019 LIVE News Updates: देश-दुनिया की तमाम खबरों के लिए क्लिक करें

बचाव दल – बिना सुरक्षा लिए काम कर रहे थे मजदूरः मौके पर पहुंची प्रशासन और आपदा प्रबन्धन सहायता व नागरिक सुरक्षा विभाग के दल ने राहत एवं बचाव कार्य के बाद चारों के शवों को बाहर निकाला। वहीं इस मामले में जिला पुलिस अधीक्षक कैलाशचंद्र बिश्नोई ने चारों मजदूरों की मृत्यु की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि मौत का सही कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि हादसे में दम घुटने के कारण होने वाली मौतों की संभावना को भी खारिज नहीं किया जा सकता। बता दें कि बचाव दलों को उनके शरीर पर हेलमेट, बूट या मुखौटा जैसे कोई सुरक्षा साधन नहीं मिले।

बता दें कि सीवरेज में कामकाज या सफाई के दौरान मजदूरों की मौत का यह पहला मामला नहीं है। सीवरेज में सफाई के दौरान जहरीली गैस के चलते भी कई मजदूरों की मौत हो चुकी है। आए दिन सामाजिक संस्थाएं इसके खिलाफ आवाज उठाती रहती हैं। सरकार लगातार दावा कर रही है कि सफाई और सीवरेज में कामकाज को अधिक से अधिक मशीनों के जरिए किए जाने की कोशिश की जा रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 J-K के राज्यपाल सत्यपाल मलिक बोले- राज्य के बड़े नेता जितना वक्त जेल में रहेंगे, उतना ही उन्हें राजनीतिक फायदा मिलेगा
2 कर्नाटक में बंद नहीं होगी इंदिरा कैंटीन, पर जांच कराएंगे सीएम येदियुरप्पा, कांग्रेस ने उठाए सवाल
3 सीनियर IPS अफसर ने छुए ममता बनर्जी के पैर, CM ने खिलाया केक, बीजेपी ने शेयर किया VIDEO