ताज़ा खबर
 

कुंभ 2019: ताकि मेले में खो न जाएं बच्चे, इस स्पेशल तकनीक का इस्तेमाल करेगी पुलिस

कुंभ मेले के दौरान अपने अभिभावकों से बिछुड़ने वाले बच्चों का पता लगाने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचानपत्र (आरएफ आईडी) मुहैया कराएगी।

Author प्रयागराज | January 14, 2019 5:46 PM
एलईडी लाइट्स से जगमगाता कुंभ मेला, फोटो सोर्स- स्थानीय

कुंभ मेले के दौरान अपने अभिभावकों से बिछुड़ने वाले बच्चों का पता लगाने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक नया तरीका निकाला है। अगर आपका बच्चे कुंभ के मेले में आपसे बिछड़ जाता है तो इस नई तकनीकि के जरिए वह आपको वापस मिल जाएगा। बता दें कि उत्तर प्रदेश पुलिस मेले के दौरान अपने पेरेंट्स के साथ आए 14 साल से कम उम्र के बच्चों को रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचानपत्र (आरएफ आईडी) मुहैया कराएगी। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सोमवार को बताया कि कुंभ मेला 50 दिन चलेगा और इसमें 12 करोड़ से अधिक लोग शामिल होंगे। बच्चे लापता ना होने पायें, इसके लिए 14 वर्ष से कम आयु के बच्चों को आरएफआईडी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि इस तकीनिक के लिए पुलिस ने वोडाफोन से सहयोग लिया है और वह समन्वय को राजी है। चालीस हजार आरएफआईडी बनेंगी।

आरएफआईडी एक किस्म का वायरलेस संचार माध्यम है। इसमें इलेक्ट्रो मैग्नेटिक या इलेक्ट्रोस्टैटिक कफलिंग का इस्तेमाल होता है, जिसके यह किसी व्यक्ति या वस्तु की पहचान में सहायक होता है। सिंह ने बताया कि कुंभ मेले में 15 आधुनिक एकीकृत डिजिटल खोया—पाया केन्द्र बनाये गये हैं। ऐसे में अगर आपका अपना कोई बिछड़ जाता है तो खोया-पाया केंद्र में जाकर सूचना दे सकते हैं। जहां से आपको सहाया मुहैया जाएगी।

सार्वजनिक घोषणा प्रणाली के अलावा एलईडी के जरिए सूचना के डिस्प्ले की व्यवस्था की गयी है। सिंह ने बताया कि पहली बार ऑटोमैटिक नंबर प्लेट पहचान प्रणाली का प्रयोग किया जाएगा। यह वाहनों की पहचान उनके रंग, लाइसेंस प्लेट, तारीख और वक्त से करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App