ताज़ा खबर
 

Kolkata: मृतक के परिजनों का आरोप- डॉक्टरों ने हमारे साथ भी मारपीट की, शव देने से किया इनकार

कोलकाता में एक मरीज की मौत के बाद नाराज परिजनों ने डॉक्टरों को पीटा था। इसके विरोध में डॉक्टरों हड़ताल पर चले गए। इस बीच मृतक के परिजनों ने डॉक्टरों पर भी संगीन आरोप लगाए हैं।

Author कोलकाता | June 16, 2019 12:29 PM
शब्बीर और तैय्यब (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस- पार्थ पॉल)

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में डॉक्टरों की हड़ताल पर सीएम ममता बनर्जी ने रुख नरम करते हुए सभी शर्तों मानने की बात कही है। साथ ही, उन्होंने डॉक्टरों से जल्द काम पर लौटने की अपील भी की। इस बीच एनआरएस हॉस्पिटल में सोमवार (10 जून) को जान गंवाने वाले बुजुर्ग मोहम्मद सैय्यद के परिजनों ने डॉक्टरों पर संगीन आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि डॉक्टरों ने उनके साथ मारपीट की थी। साथ ही, डेडबॉडी देने से इनकार कर दिया था। बता दें कि डॉक्टरों का आरोप है कि सैय्यद की मौत के बाद उनके परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ की। साथ ही, डॉक्टरों के साथ मारपीट की थी, जिसके डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे। सैय्यद के परिजनों का दावा है कि इस मामले को सांप्रदायिकता से जोड़ा जा रहा है। बता दें कि इस मामले में पुलिस 5 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

डॉक्टरों ने बदसलूकी समझ किया विरोधः मोहम्मद सैय्यद के बेटे मोहम्मद शब्बीर और पोते तैय्यब हुसैन ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि एनआरएस हॉस्पिटल के जूनियर डॉक्टरों ने भी हिंसा की। उनका आरोप है कि डॉक्टर इलाज में लापरवाही बरत रहे थे और सैय्यद को इंजेक्शन देने में देरी कर रहे थे। ऐसे में एक रिश्तेदार ने डॉक्टर को टोका तो वह बदसलूकी समझकर विरोध जताने लगे। मृतक सैय्यद के परिजनों का मानना है कि मारपीट दोनों तरफ से हुई।

National Hindi News, 16 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

माफी मांगने पर भी अड़े रहे डॉक्टरः तैय्यब हुसैन का कहना है कि घटना के बाद उन्होंने डॉक्टरों से 2 बार माफी भी मांगी, लेकिन डॉक्टर नहीं माने। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टरों ने अंतिम संस्कार के लिए डेडबॉडी तक नहीं दी। तैय्यब ने पथराव में गंभीर रूप से घायल हुए डॉक्टर के जल्द ठीक होने की कामना की।

Bihar News Today, 16 June 2019: बिहार से जुड़ी हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

मामले में सांप्रदायिक मोड़ देने का आरोप: शब्बीर और तैय्यब का कहना है कि मामले को सांप्रदायिकता से जोड़ने की कोशिश की जा रही है और एक विशेष जाति को टारगेट किया जा रहा है। उन लोगों ने इसकी निंदा भी की है। उनका कहना था कि डॉक्टरों को मृतक के परिजनों की भावना नहीं समझना और उनके साथ गलत व्यवहार भी किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App