kerala man arrested for monitoring other man with mobile app - मोबाइल एप के जरिए 24 घंटे की जा सकती है आपकी निगरानी, केरल में सामने आया पहला मामला - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मोबाइल एप के जरिए 24 घंटे की जा सकती है आपकी निगरानी, केरल में सामने आया पहला मामला

कोच्चि के डिप्टी कमिश्नर डॉ. हिमेन्द्र का कहना है कि इस तरह का केरल में यह पहला मामला है। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है और यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आरोपी ने इस तरह कितने और लोगों की निगरानी की है।

आरोपी पीड़ित की पत्नी की मदद से कर रहा था निगरानी। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

केरल में एक बैंक कर्मचारी को पुलिस ने एक व्यक्ति की निगरानी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपी अपनी एक दोस्त के पति की मोबाइल एप की मदद से निगरानी कर रहा था। आरोपी की पहचान अजीत एस (32 वर्ष) के रुप में हुई है, जो कि निगरानी के लिए ट्रैकव्यू नामक एप्लीकेशन की मदद ले रहा था। इस मामले में आरोपी की दोस्त और पीड़ित की पत्नी को भी आरोपी बनाया गया है। कोच्चि के डिप्टी कमिश्नर डॉ. हिमेन्द्र का कहना है कि इस तरह का केरल में यह पहला मामला है। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है और यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आरोपी ने इस तरह कितने और लोगों की निगरानी की है। आमतौर पर यह एप जासूसी के कामों में इस्तेमाल होता है। शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी ने अपनी दोस्त के पति की एक्टिविटी ट्रेस करने के लिए ही इस एप का इस्तेमाल किया है। यह जानने की कोशिश की जा रही है कि आरोपी का उद्देश्य ब्लैकमेलिंग था या नहीं।

किसी की भी की जा सकती है निगरानीः पुलिस के अनुसार, आरोपी अजीत ने पीड़ित अद्वैत आर.वी के मोबाइल फोन में उसकी पत्नी श्रुति की मदद से ट्रैकव्यू नामक एप्लीकेशन डाउनलोड कर दी और फिर खुद के फोन में भी वही एप्लीकेशन डाउनलोड कर ली। इसके बाद आरोपी अजीत अद्वैत की सभी एक्टिविटी और ऑडियो-वीडियो कॉल की रिकॉर्डिंग करने लगा। दरअसल अद्वैत और उसकी पत्नी श्रुति के बीच पिछले कुछ दिनों से विवाद चल रहा है। बताया जा रहा है कि अद्वैत नौकरी के लिए अरब देश गया था और वहां से भेजे 7 लाख रुपए को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा था। 15 दिन पहले श्रुति अद्वैत का घर छोड़कर अलग रह रही थी। यही वजह थी कि श्रुति, अजीत की मदद से अद्वैत की ट्रैकिंग करा रही थी।

पीड़ित अद्वैत का कहना है कि मेरा घर छोड़ने के बावजूद श्रुति को उसकी पूरी एक्टिविटी के बारे में जानकारी थी। जिसके बाद मैंने अपने घर की तलाशी ली और आईटी प्रोफेशनल को अपना मोबाइल फोन दिखाया। जिसने फोन में 2 मोबाइल एप के इंस्टॉल होने के बारे में जानकारी दी। अद्वैत के अनुसार, उसकी जासूसी मार्च से की जा रही थी। अद्वैत का कहना है कि श्रुति के कहने पर उसकी जासूसी की जा रही थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App