केरलः HC को रास नहीं आए महिला पुलिस अफसर के तेवर, वायरल वीडियो में लड़की के आंसू देख कही ये बात

हाईकोर्ट ने कहा कि एक महिला और एक मां होने के नाते अधिकारी को आंसुओं से पिघल जाना चाहिए था। उन्हें बच्चे को दिलासा देना चाहिए था।

kerala high court, kerala police
एक मां होने के नाते अधिकारी को आंसुओं से पिघल जाना चाहिए था- हाईकोर्ट

केरल हाईकोर्ट ने पुलिस के एक वायरल होते वीडियो को लेकर कड़ी टिप्पणी कर दी है। कोर्ट ने इस वीडियो में मौजूद पुलिस अधिकारी को लेकर इसे खाकी का विशुद्ध अहंकार व घमंड कहा है।

केरल उच्च न्यायालय ने सोमवार को कहा कि एक महिला पुलिसकर्मी का व्यवहार “खाकी के शुद्ध अहंकार और घमंड” को दर्शाता है। महिला पुलिस कर्मी ने एक पिता और बेटी को फोन चुराने का आरोप लगाते हुए रोका था। जस्टिस देवन रामचंद्रन ने घटना का लगभग पांच मिनट लंबा वीडियो चलाने के बाद कहा कि लड़की को शुरू से ही रोते हुए देखा जा सकता है, लेकिन अधिकारी बिल्कुल नहीं हिली।

कोर्ट ने कहा कि एक महिला और एक मां होने के नाते अधिकारी को आंसुओं से पिघल जाना चाहिए था और बच्चे को दिलासा देना चाहिए था। कोर्ट ने कहा- “दृश्य परेशान कर रहे हैं। इसने मुझे हिला दिया है। लड़की रो रही थी। वह डर गई थी। वे समाज के एक कमजोर वर्ग से हैं। इसे बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था। उन्हें झुककर बच्चे से माफी मांगनी चाहिए थी और उसके लिए एक चॉकलेट खरीदनी थी और चीजें वहीं खत्म हो जाती। इसके बजाय, उन्होंने अपने कार्यों को सही ठहराया। यह ज्ञान की कमी नहीं है। यह शुद्ध अहंकार और घमंड है”।

अदालत ने सवाल उठाते हुए कहा कि ये कैसी पिंक पुलिस है कि जब बच्ची रोने लगी तो कोई उसके पास नहीं गया? हमें ऐसी पिंक पुलिस की क्या जरूरत है? अदालत ने पुलिस से पूछा कि क्या तत्काल मामले में बच्चा भविष्य में कभी किसी अधिकारी पर भरोसा करेगा?

अदालत ने राज्य के पुलिस प्रमुख से इस मुद्दे पर “अपना ध्यान” देने और रिपोर्ट दर्ज करने को कहा है। इस मामले में अब तक पिता और बेटी के बयान नहीं लिए गए हैं।

अदालत आठ साल की बच्ची द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें सरकार को उसके मौलिक अधिकार के उल्लंघन के लिए अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश देने की मांग की गई थी। याचिकाकर्ता ने अपमानजनक घटना के लिए सरकार से मुआवजे के रूप में 50 लाख रुपये की भी मांग की है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट