ताज़ा खबर
 

मुस्‍ल‍िम दंपती ने ह‍िंदू को गोद लेकर बेटी की तरह पाला, अब मंद‍िर में ह‍िंदू से कराई शादी

मंजू की शादी सुब्रम्ण्यन के साथ कोझिकोड के स्थानीय मंदिर में संपन्न करवा दी गई। मजीद और रमल ने मंजू को उस वक्त गोद लिया था, जब वह सिर्फ 10 साल की थी।

प्रतीकात्मक तस्वीर

केरल के मुस्लिम परिवार ने अपने फैसले से प्यार की नई इबारत लिख दी है। उन्होंने अपनी बेटी की शादी उसके धार्मिक रीति—रिवाजों के मुताबिक मंदिर में पारंपरिक मलयाली विधि—विधान से की है। ये शादी केरल के कोझिकोड जिले के स्थानीय मंदिर में पूरे विधि—विधान से संपन्न हुई है। बता दें कि मंजू नाम की हिंदू लड़की को मुस्लिम मजीद और रमल ने पाल—पोसकर बड़ा किया था।

इंडिया टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक, रविवार (19 अगस्त) को, मंजू की शादी सुब्रम्ण्यन के साथ कोझिकोड के स्थानीय मंदिर में संपन्न करवा दी गई। मजीद और रमल ने मंजू को उस वक्त गोद लिया था, जब वह सिर्फ 10 साल की थी। मंजू बचपन से ही मजीद और रमल के बच्चों जुनैद, सुलिका और सुमिया के साथ ही बड़ी हुई। उन्होंने मंजू पर कभी भी इस्लाम अपनाने का दबाव नहीं डाला। उन्होंने उसे उसी धर्म के साथ बड़ा होने दिया, जिसमें वह पैदा हुई थी। मजीद और रमल ने मंजू को अच्छी से अच्छी शिक्षा और संस्कार देने की कोशिश की।

जब मंजू की शादी का वक्त आया तो मजीद और रमल ने अपनी बेटी के लिए सर्वश्रेष्ठ वर का चुनाव किया। इसके बाद भी मजीद के मन में मलाल है कि वह अपनी बेटी के​ ​लिए विवाह समारोह का भव्य आयोजन नहीं कर सका। केरल में आई बाढ़ के कारण शादी का भव्य आयोजन कर पाना संभव नहीं था। इसके अलावा चारों तरफ बाढ़ पीड़ितों को हो रही तकलीफों के कारण भी ये आयोजन नहीं किया गया। वैसे बता दें कि केरल इन दिनों भीषण बाढ़ की आपदा से जूझ रहा है। लाखों लोग अपना घर छोड़कर राहत शिविर में रहने के लिए मजबूर हो गए हैं। केरल में बाढ़ के कारण 8 अगस्त से लेकर अब तक 237 लोगों की मौत हुई है। जबकि 14 लाख लोग लगातार हो रही बारिश के कारण अपने घरों से बेघर हो गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App