ताज़ा खबर
 

CPI-M नेता का वीडियो वायरल, कहा- RSS वर्कर्स की बोटी-बोटी कर मिर्च के साथ खाएंगे

डीवायएपआई और एलडीएफ का यूथ विंग तुम्हें चुनौती देते हैं कि अगर तुम बहादुर हो और अगर एक ही बाप की औलाद हो तो हमें रोक कर दिखाओ।

Author मलाप्पुरम | August 5, 2017 10:58 AM
केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन। (पीटीआई फाइल फोटो)

इन दिनों सोशल मीडिया पर सीपीआई-एम के नेता का एक वीडिया खूब शेयर किया जा रहा है जिसमें वे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कार्यकर्ताओं की बोटी-बोटी कर मिर्च के साथ खाने का ऐलान किया जा रहा है। इस वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल पर डालते हुए बीजेपी के नेता अमित मालवीय ने लिखा केरल के मलाप्पुरम के स्थानीय सेक्रेटरी, जो कि एक सरकारी टीचर भी हैं, आरएसएस कार्यकर्ताओ की बोटी-बोटी कर मिर्च के साथ खाना चाहते हैं। सीपीआई-एम के नेता का इस तरह आपत्तिजनक वीडिया वायरल होने के बाद बीजेपी को पार्टी को निशाना बनाने का नया मुद्दा मिल गया है क्योंकि पिछले एक साल में कई आरएसएस कार्यकर्ताओं और नेताओं की केरल में हत्या की जा चुकी है।

बीजेपी और आरएसएस इन हत्याओं के पीछे शुरु से सीपीआई-एम पर आरोप लगाती है। अब पार्टी के एक नेता के इस प्रकार का बयान देने के बाद सीपीआई-एम एक बार फिर से आरएसएस और बीजेपी के निशाने पर आ गई है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो की बात करें तो सीपीआई-एम नेता ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर तुम्हारे पास पर्याप्त आदमी और हिम्मत है तो हमें रोक कर दिखाओ। डीवायएपआई और एलडीएफ का यूथ विंग तुम्हें चुनौती देते हैं कि अगर तुम बहादुर हो और अगर एक ही बाप की औलाद हो तो हमें रोक कर दिखाओ।

इसके बाद सीपीआई-एम नेता ने कहा तुम लोग धर्म के नाम पर केवल अनपढ़ और अनुभवहीन उत्तर भारतीय लोगों को पागल बनाकर तोड़ने का काम कर सकते हो लेकिन ऐसा केरल में कभी नहीं हो पाएगा क्योंकि यह एक ऐसा राज्य है जिसका सब उदाहरण देते है। केरल भारत का ऐसा पहला राज्य है जो कि शिक्षा का अधिकार और भूमि सुधार अधिनियम के लिए जाना जाता है। केरल ही केवल वह राज्य है जिसने शिक्षा में शत-प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त की है। इस राज्य को चलाने का काम बहादुर पिनरयी विजयन कर रहे है। हम फिर से आरएसएस को चुनौती देते हैं कि हमें रोक कर दिखाओ। हम तुम लोगों के टुकड़े-टुकड़े कर देंगे और मिर्च के साथ मिलाकर उन्हें खा जाएंगे।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App