ताज़ा खबर
 

CPI-M विधायक पर यौन शोषण का आरोप, राज्य महिला आयोग प्रमुख बोलीं- गलतियां हो जाती हैं

राष्ट्रीय महिला आयोग ने केरल पुलिस को निर्देश दिया है कि माकपा के एक विधायक पर लगे यौन उत्पीड़न की जांच की जाए और इस मामले में की गई कार्रवाई के बारे में आयोग को अवगत कराया जाए।

स्टेट वुमन कमिशन की चेयरपर्सन एमसी जोसफिन ने कहा कि गलतियां हो जाती हैं। उन्होंने कहा, ‘हम सभी इंसान हैं। गलतियां हो जाती है। पार्टी के अंदर भी लोग इस तरह की गलतियां कर सकते हैं।’ (ANI PHOTO)

यौन शोषण के आरोप का सामने कर रहे केरल सीपीआईएम विधायक के बचाव में राज्य की महिला पैनल प्रमुख ने विवादित बयान दिया है। विधायक पर लगे आरोपों पर टिप्पणी करते हुए स्टेट वुमन कमिशन की चेयरपर्सन एमसी जोसफिन ने कहा कि गलतियां हो जाती हैं। उन्होंने कहा, ‘हम सभी इंसान हैं। गलतियां हो जाती है। पार्टी के अंदर भी लोग इस तरह की गलतियां कर सकते हैं।’ दरअसल एक महिला ने शोरनूर से सीपीआईएम विधायक पीके शशि पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। इससे पहले विधायक के खिलाफ महिला की ओर से दर्ज कराए यौन उत्पीड़न के आरोप की जांच के लिए दो सदस्यीय समिति का गठन किया है। वरिष्ठ नेता और राज्य के कानून और संस्कृति मंत्री एके बालान और पार्टी सांसद पीके श्रीमती माकपा के युवा प्रकोष्ठ डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया की महिला नेता द्वारा शशि के खिलाफ लगाये गए आरोपों की जांच करेंगे। पार्टी की ओर से शुक्रवार (7 सितंबर, 2018) को जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि पार्टी सचिवालय में मुद्दे पर चर्चा के बाद 31 अगस्त को आयोग का गठन किया गया। भाजपा और कांग्रेस ने माकपा पर मामले को छिपाने की कोशिश का आरोप लगाया है। हालांकि राज्य के सत्तारूढ़ दल ने विज्ञप्ति में कहा है कि पार्टी ने 14 अगस्त को शशि के खिलाफ शिकायत मिलने के साथ ही मामले में हस्तक्षेप किया।

वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने केरल पुलिस को निर्देश दिया है कि माकपा के एक विधायक पर लगे यौन उत्पीड़न की जांच की जाए और इस मामले में की गई कार्रवाई के बारे में आयोग को अवगत कराया जाए। आयोग ने एक बयान में कहा कि उसने मीडिया में आई खबरों के आधार पर इस मामले का संज्ञान लिया और फिर इस बारे में राज्य के पुलिस प्रमुख को लिखा। महिला आयोग ने कहा, ‘‘निर्वाचित प्रतिनिधि के इस कथित व्यवहार को लेकर आयोग बहुत आहत है। पुलिस प्रमुख को निर्देश दिया जाता है कि मामले की जांच की जाए।’’ महिला आयोग ने यह भी कहा है कि राज्य पुलिस इस मामले में उठाए गए कदमों की जानकारी आयोग को दे और पीड़िता को त्वरित न्याय दिलाना सुनिश्चित करे। (एजेंसी इनपुट सहति)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App