ताज़ा खबर
 

कोच्चि मेट्रो में पीएम मोदी के साथ बैठे इस शख्स को देख भड़के कांग्रेसी, बताया – सुरक्षा में चूक

राज्य मंत्री के इस सवाल का जवाब देते हुए बीजेपी राज्य सचिव के. सुरेंद्रन ने कहा कि यह फैसला लेना की कौन पीएम मोदी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेगा कौन नहीं यह पीएमओ का काम है और राज्य मंत्री को इस बारे में चिंता करने की जरुरत नहीं है।

मेट्रो में मोदी के साथ राज्य गवर्नर पी सथाशिवम, मुख्यमंत्री पिनरयी विजयन और केंद्रीय मंत्री वैंकया नायडू समेत बीजेपी केरल यूनिट के अध्यक्ष कुम्मनम राजशेखरण भी मौजूद थे। (Photo Source: Twitter)

केरल में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोच्चि मेट्रो का उद्धघाटन किया था। इस नई मेट्रो में मोदी के साथ राज्य गवर्नर पी सताशिवम, मुख्यमंत्री पिनरयी विजयन और केंद्रीय मंत्री वैंकया नायडू समेत बीजेपी केरल यूनिट के अध्यक्ष कुम्मनम राजशेखरण भी मौजूद थे। राजशेखरण के मोदी के साथ मेट्रो में सफर करने के बाद कांग्रेस ने इस पर विवाद खड़ा कर दिया है। राज्य मंत्री कदकंपल्ली सुरेंदरन ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए इसे पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक बताया है। सुरेंदरन ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में कमी बताते हुए इस मामले की जांच करने की मांग उठाई है। सुरेंदरन का कहना है कि राजशेखरन किसी पंचायत वार्ड के सदस्य तक नहीं है फिर भी उन्हें मोदी के साथ मेट्रो में सफर क्यों करने दिया गया।

यह बात कदकंपल्ली सुरेंदरन ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट में लिखकर कही। सुरेंदरन ने कहा कि एक उद्धघाटन कार्यक्रम के दौरान स्थानीय विधायक पीटी थोमस को सुरक्षा कारणों से पीएम मोदी के साथ स्टेज साझा करने की अनुमति तक नहीं दी गई थी तो अब राजशेखरन कैसे पीएम के साथ सफर कर सकते हैं। राज्य मंत्री के इस सवाल का जवाब देते हुए बीजेपी राज्य सचिव के. सुरेंद्रन ने कहा कि यह फैसला लेना की कौन पीएम मोदी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेगा कौन नहीं यह पीएमओ का काम है और राज्य मंत्री को इस बारे में चिंता करने की जरुरत नहीं है।

बीजेपी नेता ने कहा कि पीएम मोदी की सुरक्षा के लिए स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप वहां मौजूद था इसलिए मंत्री को इस मामले में दखल देने की आवश्कता नहीं है। पीटीआई के अनुसार कांग्रेसियों द्वारा अपने ऊपर बयान होता देख राजशेखरण ने कहा कि राज्य नीतियों और स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप द्वारा अनुमति मिलने के बाद ही उन्होंने मोदी के साथ मेट्रो में सफर किया था। अगर राज्य मंत्री को इस मामले में कोई परेशानी है तो यह मुद्दा सूबे के मुख्यमंत्री के सामने उठा सकते हैं क्योंकि वे सब जानते हैं।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App