ताज़ा खबर
 

केरल बीजेपी के मुखपत्र में सीएम पर ‘जातिवादी’ कार्टून से सीपीएम नाराज, कहा- माफी मांगे पार्टी

सीपीएम भगवा पार्टी के खिलाफ हथियार उठा चुकी है। केरल के वित्त मंत्री टीएम थॉमस इसाक ने फेसबुक पर लिखा कि कार्टून केरल में भाजपा के नेतृत्व की आंतरिक मानसिकता को उजागर करता है।

Author Updated: December 25, 2018 11:05 AM
कैप्शन के साथ कार्टून में दो लोगों को विशेषाधिकार प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए दिखाया गया है।

सीपीएम ने सोमवार 24 दिसंबर को भाजपा पर जमकर निशाना साधा, आरोप लगाया कि भगवा पार्टी के मुखपत्र के रूप में जाने जाने वाले जन्मभूमि अखबार के फ्रंट-पेज पर एक कार्टून छपा है, यह मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के खिलाफ जातिवादी तंज है। यह कार्टून 22 दिसंबर को मलयालम भाषा के अखबार में छपा था। इसमें केरल विधानसभा में कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष द्वारा सीएम के खिलाफ ‘वूमन्स वॉल’ पर लाए गए विशेषाधिकार प्रस्ताव पर चर्चा करने का प्रयास किया – यह एलडीएफ सरकार द्वारा नियोजित एक इवेंट है जिसमें महिलाएं राज्य में कंधे से कंधा मिलाकर चलेंगी और साथ ही सबरीमाला रॉ में महिलाओं के साथ पार्टी की एकजुटता का परिचय देंगी।

एक कैप्शन के साथ कार्टून में दो लोगों को विशेषाधिकार प्रस्ताव पर चर्चा करते हुए दिखाया गया है, इसमें लिखा है “नारियल के पेड़ों पर चढ़ने वाले व्यक्ति को जिम्मेदारी देते समय ऐसी बातों को ध्यान में रखना चाहिए।” कैप्शन को मुख्य रूप से सीएम के बैकग्राउंड पर ताना मारने के रूप में देखा गया है। सीएम विजयन मुख्य रूप से ताड़ी-दोहन में लगे थैय्या समुदाय से आते हैं। उनके पिता ताड़ी-टेपार थे। कार्टून की सोशल मीडिया में काफी निंदा हो रही है।

हालांकि बीजेपी नेतृत्व ने कार्टून पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है, लेकिन सीपीएम भगवा पार्टी के खिलाफ हथियार उठा चुकी है। केरल के वित्त मंत्री टीएम थॉमस इसाक ने फेसबुक पर लिखा कि कार्टून केरल में भाजपा के नेतृत्व की आंतरिक मानसिकता को उजागर करता है। उन्होंने कहा कि कार्टून केरल के शानदार कार्टून इतिहास का अपमान है। सीपीएम पोलित ब्यूरो के सदस्य एम ए बेबी ने कहा कि अखबार को कार्टून वापस लेना चाहिए और सीएम पर जातिवादी ताने वाला कार्टून बनाने के लिए माफी मांगनी चाहिए। यह दर्शाता है कि संघ परिवार राज्य की पुनर्जागरण परंपरा के खिलाफ है। कार्टून ने आरएसएस में उच्च जाति के प्रभुत्व को उजागर किया। आपको बता दें कि अक्टूबर में अरनमुला में पुलिस ने एक महिला के खिलाफ मुख्यमंत्री पर ऐसा ही जातिवाद का तंज मारने का मामला दर्ज किया था। महिला ने बाद में माफी मांगी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X