scorecardresearch

केरल: 16 मुस्लिम युवकों पर IS ज्‍वाइन करने का शक, देश से बाहर जाकर भेजा मैसेज- पहुंच गए आखिरी मंजिल

पिछले साल संयुक्‍त अरब अमीरात के केरल के चार युवकों को इस्‍लामिक स्‍टेट से कथित संबंधों के चलते निर्वासित कर दिया था।

Parbhani case, Parbhani youth, Nasir Chaus, islamic state, islamic state handler, isis, is handler shafi armar, iraq, iraq crisis, religion convert, maharasgtra ats, parbhani is module, indian express news, india news
प्रतीकात्मक तस्वीर। (REUTERS/Stringer/File Photo)

केरल के उत्‍तरी कासरगोड़ जिले के 16 मुस्लिम युवक पिछले एक महीने से लापता हैं। उनके रिश्‍तेदारों को डर हैं कि वे इस्लामिक स्‍टेट जैसे आतंकवादी संगठन से जुड़ने के लिए सीरिया चले गए हैं। पिछले साल कतर में काम कर रहा केरल का एक पत्रकार सीरिया के राष्‍ट्रपति बशर अल-असद से लड़ने के लिए सुन्‍नी मिलिटिया नाम के संगठन से जुड़ गया था। इससे इस शंका को और बल मिला है कि ये मुस्लिम युवक भी सीरिया चले गए हैं।

लापता युवकों में से एक के रिश्‍तेदार ने Hindustan Times को बताया कि वे 6 जून को तीर्थयात्रा पर जाने की बात कहकर देश से बाहर गए थे। अब उनके फोन स्विच ऑफ हैं, लेकिन पिछले सप्‍ताह एक रिश्‍तेदार को Whatsapp पर एक मैसेज मिला था। जिसमें लिखा था कि वे सभी ‘अपनी आखिरी मंजिल’ तक पहुंच चुके हैं। रिश्‍तेदार ने कहा, ”हमें डर है कि वे इराक या सीरिया के संघर्ष क्षेत्र पहुंच गए हैं।” लापता लोगों में एक डॉक्‍टर, उसकी पत्‍नी और 8 माह का बच्‍चा भी शामिल है।

READ ALSO: ISIS के नए Video में नज़र आए बांग्लादेशी डेंटिस्ट, गायक और एमबीए छात्र

रिश्‍तेदारों ने शुक्रवार को केरल के मुख्‍यमंत्री पिनराई विजयन से मुलाकात कर उन्‍हें ढूंढ़ने में मदद मांगी। कासरगोड़ के सासंद पी. करुणकरन का कहना है कि, ”सभी नौजवान थ्रिक्‍कारीपुर और आस-पास के इलाकों से हैं। शुरू में रिश्‍तेदारों को लगा कि वे लौट आएंगे लेकिन वे गलत थे। हम राज्‍य और केन्‍द्र सरकार की मदद से उन्‍हें ढूंढ़ने और वापस लाने की कोशिश करेंगे।”

READ ALSO: ISIS ने जारी किया नया VIDEO, कहा- जबतक दुनिया में शरीयत लागू नहीं होगा ऐसे ही होते रहेंगे हमले

एक और रिश्‍तेदार का कहना है कि ”20-30 साल की उम्र के ये नौजवान थ्रिक्‍कारीपुर के एक सांस्‍कृतिक केंद्र पर अक्‍सर मिला करते थे। उनमें कट्टरता के कोई निशान नहीं थे। हमें कोई अंदाजा नहीं कि वे चरमपंथी विचारधारा की तरफ कैसे आकर्षित हो गए।”

पढें केरल (Keralaelections2016 News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट