ताज़ा खबर
 

दो महीने से चल रहा था इलाज, मरा समझ रख दिया मुर्दाघर में, घंटेभर बाद देखा तो चल रही थी सांस

महिला का अस्पताल में दो महीने से पीलिया का इलाज चल रहा था।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

केरल में एक अनोखी घटना देखने को मिली है, जहां एक पीलिया से पीड़ित महिला को मृत घोषित करके मुर्दाघर में रख दिया जाता है। वह महिला एक घंटे तक मुर्दाघर में रही, लेकिन बाद में वह महिला जिंदा हो गई। घटना राज्य के इडुक्की जिले की है। द न्यूज मिनट की रिपोर्ट के मुताबिक 40 साल की महिला रतनाम का मदुरई की एक अस्पताल में पिछले दो महीने से इलाज चल रहा था। बीमारी की वजह से रतनाम के शरीर के अंदरूनी अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। अस्पताल के डॉक्टरों ने रतनाम के परिजनों को कहा कि उसे अस्पताल में रखने का कोई मतलब नहीं है क्योंकि उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हो रहा है। इसलिए डॉक्टरों ने रतनाम के परिजनों को उन्हें घर ले जाने की सलाह दी।

इसके बाद रतनाम के परिजन उसे एम्बुलेंस से उसे इडुक्की जिले में स्थित वंदानमेड गांव ले आए। लेकिन जब उन्होंने देखा कि उनका शरीर कोई हरकत नहीं कर रहा है तो उन्होंने सोचा कि वह मर चुकी है। इसके बाद परिजनों ने उसे मुर्दाघर ले जाने का फैसला किया। रिपोर्ट के मुताबिक एक घंटा मुर्दाघर में रखने के बाद उनके परिवार के लोगों ने देखा कि उनकी सांस चल रही है और शरीर हरकत कर रहा है। इसके बाद उसे पास के कट्टप्पना गांव में एक प्राइवेट अस्पताल में ले जाया गया और पुलिस को जानकारी दी गई। पुलिस ने बताया कि मुर्दाघर में शिफ्ट करने से पहले उनके परिवार के सदस्य को डॉक्टरों या अस्पताल की तरफ से उनकी मौत की पुष्टि नहीं की गई थी।

बता दें, इससे कुछ महीने भी एक ऐसी घटना ही घटना कर्नाटक में देखने को मिली थी। जहां एक बच्चो को एक अवारा कुत्ते ने काट लिया था, जिसके बाद उसे मृत समझ लिया गया था। लेकिन जब उसे अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था तो वह रास्ते में उठा खड़ा हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App