ताज़ा खबर
 

FB पर ऐलान करके लश्कर में हुआ था शामिल, लोगों की अपील पर वापस लौटा कश्मीरी फुटबॉलर

आतंकी संगठन में शामिल होने के बाद उसके रिश्तेदार और दोस्त सभी सोशल मीडिया साइट्स पर उसके घर लौट आने की अपीलें कर रहे थे।

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग से 10 नवंबर को मजीद अर्शिद खान आतंकी संगठन में शामिल हुआ था, जिसके बाद उसके घर वाले परेशान थे। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

जम्मू-कश्मीर से सात दिनों पहले एक युवा फुटबॉलर पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था। लोगों की अपील पर उसने अब संगठन को छोड़ दिया है। फिलहाल वह पुलिस की हिरासत में है, जहां उससे पूछताछ की जा रही है। 10 नवंबर को यहां के अनंतनाग शहर में रहने वाले मजीद अर्शिद खान ने फेसबुक पर लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ने का ऐलान किया था। उसने पोस्ट में फोटो भी डाला था, जिसमें वह एक-47 राइफल पकड़े था। खान यहां पर मशहूर फुटबॉलर था और वह एक गैर सरकारी संगठन के साथ काम भी कर चुका था। टि्वटर पर एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इस बारे में जानकारी दी। उसने लिखा, “हमें वह वापस मिल गया है। यह वाकई में खुशी का पल है। यह उसकी मां की मन्नतों का परिणाम है। जिन लड़कों ने हथियार उठा रखे हैं, उसने गुजारिश है कि वे अपने घरों को लौट आएं।” मजीद के आंतकी संगठन छोड़ने पर उसके दोस्त हैरान हैं, क्योंकि वह घर में इकलौता बेटा है।

वहीं, पुलिस का इस मामले में कहना है, “मजीद लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था। वह उसके कुछ आतंकियों को भी जानता था। वह अनंतनाग डिग्री कॉलेज में कॉमर्स का छात्र था।” दोस्त बताते हैं, “करीबी दोस्त यावर निसार सुरक्षा बलों के साथ अगस्त के पहले हफ्ते में दक्षिणी कश्मीर में हुई मुठभेड़ में मारा गया था, जिसके बाद उसकी (मजीद की) जिंदगी भी बदल गई। एक अन्य दोस्त के मुताबिक, “वह अपने दोस्त के अंतिम संस्कार में गया था, जहां आखिर तक उसकी आंखें नम थीं। उसके बाद वह बिल्कुल बदल ही गया।”

आतंकी संगठन में शामिल होने के बाद उसके रिश्तेदार और दोस्त सभी सोशल मीडिया साइट्स पर उसके घर लौट आने की अपीलें कर रहे थे। स्थानीय लोगों की मानें, तो मजीद के घर वाले उसके लश्कर से जुड़ने पर सदमे में थे। मजीद की मां आयशा खान का इससे पहले एक वीडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें वह रोते-बिलखते हुए बेटे के घर लौटने की बात कहती दिख रही थीं।

मजीद ड्रिग्री कॉलेज में कॉमर्स सेकेंड ईयर का स्टूडेंट था और अपने परिवार के साथ अनंतनाग शहर में रहता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App