ताज़ा खबर
 

Kashmir में तैनात ITBP जवान ने MP सरकार को दी धमकी- इंसाफ करो वरना नया Paan Singh Tomar बनने के लिए ट्रेनिंग की जरूरत नहीं पड़ेगी

ITBP जवान अमित ने आरोप लगाया, 'सुरक्षा गार्ड ने मेरे भाई अतुल सिंह पर बियर की बोतल से सिर पर हमला किया। इस दौरान उनके द्वारा फेंके गए पत्थरों में से एक में उनकी दाहिनी आंख पर चोट लगी, जिसके कारण उन्होंने उस आंख में 80 फीसदी रोशनी खो दी है।'

ITBP Man PTI 2प्रतीकात्मक तस्वीर (पीटीआई)

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के एक जवान ने मध्य प्रदेश में अपने परिवार के सदस्यों के साथ मारपीट के एक मामले में अधिकारियों द्वारा एक्शन न लेने पर धमकी दी है। यह धमकी पुलिस अधिकारी ने फेसबुक (Facebook) पोस्ट के जरिये दी। जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में तैनात सिपाही ने बताया कि उसके छोटे भाइयों में से एक ने हमले में उसकी दाहिनी आंख की 80 फीसदी रोशनी गंवा दी। हवलदार अमित सिंह ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा, ‘मध्यप्रदेश सरकार मेरे साथ और मेरे भाई के साथ न्याय करे नहीं तो नया पान सिंह तोमर बनने के लिए मुझे बंदूक चलाने की ट्रेनिंग लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।’

पिकनिक मनाने गया था परिवारः उन्होंने बताया कि उनके परिजन 16 अगस्त को खंडवा जिले के इंदिरा सागर बांध के पास एमपी टूरिस्ट स्पॉट के जल पर्यटन स्थल हनुवंतिया टापू पर पिकनिक मनाने गए थे। वहां उनकी निजी सुरक्षा गार्ड्स के साथ बच्चों के लिए दूध की बोतलें और बिस्कुट ले जाने की अनुमति नहीं देने को लेकर बहस हुई। इसके बाद बात धीरे धीरे इतनी बढ़ गई कि वहां तैनात गार्ड चरण सिंह गोंड और दूसरे सुरक्षा गार्ड्स ने उनके परिवार पर ईंट, लाठी और यहां तक कि बियर की बोतलों से भी हमला किया।

Arun Jaitley Demise News Live Update: भावुक हुए पीएम मोदी, बोले- मेरा दोस्त हमेशा के लिए चला गया

पर्यटन कर्मचारियों के सामने हुआ हमलाः अमित ने आरोप लगाया, ‘सुरक्षा गार्ड्स ने, विशेष रूप से मेरे भाई अतुल सिंह पर बियर की बोतल से सिर पर हमला किया। इस दौरान उनके द्वारा फेंके गए पत्थरों में से एक में उनकी दाहिनी आंख पर चोट लगी, जिसके कारण उन्होंने उस आंख की 80 फीसदी रोशनी खो दी है। उन्होंने बताया कि इस हमले में उनके छोटे भाई विपुल के पैर में भी फ्रैक्चर हो गया। यह घटना पर्यटन विभाग के कर्मचारियों के सामने हुई। विपुल ने बताया, ‘इंदौर में डॉक्टरों ने जहां मेरे घायल भाई अतुल का इलाज किया जा रहा है, हमें सूजन वाली दाहिनी आंख की 80 फीसदी रोशनी को वापस लाने के लिए उसे चेन्नई ले जाने के लिए कहा है।’ उन्होंने बताया कि पुलिस ने हमारी मदद करने के बजाय, केवल दो गार्ड्स, 15 अज्ञात गार्ड्स और नाविकों के खिलाफ हमारी शिकायत पर साधारण आईपीसी की धाराओं के तहत अपमानजनक व्यवहार, शारीरिक प्रताड़ना और आपराधिक धमकी के तहत मामला दर्ज किया और उनके भाई की आंख में गंभीर चोट के कारण हत्या के प्रयास का मामला दर्ज नहीं किया।

पीड़ित के भाई ने लगाया यह आरोपः इस मामले में थाना प्रभारी ने कहा, ‘दोनों समूह एक-दूसरे से भिड़ गए थे, इस दौरान परिवार के सदस्यों में से एक की आंख पर गंभीर घाव आया। उन्होंने बताया चूंकि मुंडी (खंडवा) में सरकारी स्वास्थ्य सुविधा में डॉक्टरों ने शुरू में इसे साधारण चोट माना। इसलिए इस मामले में हमने आईपीसी की साधारण धाराएं दर्ज लगाई थीं। एक बार जब हमें इंदौर में डॉक्टरों से नई मेडिको लीगल रिपोर्ट मिल जाती है, तो हम एफआईआर में और भी धाराएं जोड़ देंगे। इस मामले में पीड़ितों में एक भाई ने आरोप लगाया कि सुरक्षा गार्ड एक कांग्रेस के नेता के करीबी रिश्तेदार द्वारा चलाए जा रहे एक सुरक्षा एजेंसी से थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व स्पीकर पर लगा AC-Furniture चुराने का आरोप, घर से चोरों ने उड़ाया सामान तब हुआ खुलासा, दी ये सफाई
2 Rajasthan: केमिकल से भरे टैंकर को ओवरटेक करते समय पलटी वैन, दो परिवारों के 9 लोगों की मौत
3 Bhim Army ने दिया अल्टीमेटम, कहा- 10 दिनों में रविदास मंदिर का मुद्दा नहीं सुलझा तो करेंगे भारत बंद का आह्वान
ये पढ़ा क्या?
X