ताज़ा खबर
 

करतारपुर कॉरिडोर खुलने का मतलब कुछ और न निकाले पाकिस्तान, सुषमा स्वराज ने दिया यह सीधा मैसेज

करतारपुर गलियारे का पाकिस्तान के साथ बातचीत से कोई संबंध नहीं : सुषमा

Author November 28, 2018 2:49 PM
केंद्रीय विदेश मंंत्री सुषमा स्वराज (फोटो सोर्स : Indian Express)

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को कहा कि करतारपुर गलियारा पहल का पाकिस्तान के साथ बातचीत से कोई लेना-देना नहीं है और पाकिस्तान जब भारत में आतंकवादी गतिविधियां बंद कर देगा तभी उससे बातचीत शुरू होगी। भारत इस गलियारे की लंबे समय से मांग करता रहा है, जिससे भारतीय सिख श्रद्धालु बिना वीजा के करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब तक आ जा सकें। स्वराज ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि पाकिस्तान ने पहली बार सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इस कदम भर से द्विपक्षीय वार्ता शुरू हो जाएगी। आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकती।’’ विदेश मंत्री तेलंगाना में सात दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले प्रचार के लिए यहां हैं और वह संवाददाताओं को संबोधित कर रहीं थीं।

उन्होंने कहा, ‘‘जिस क्षण पाकिस्तान भारत में आतंकवादी गतिविधियां बद कर देगा, बातचीत शुरू हो सकती है लेकिन बातचीत केवल करतारपुर गलियारे से जुड़ी नहीं है।’’ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान बुधवार को अपने देश में इस गलियारे की आधारशिला रखेंगे। इस गलियारे के छह माह के भीतर पूरा होने की उम्मीद है।

वहीं दूसरी ओर केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और हरदीप सिंह पुरी करतारपुर गलियारे के शिलान्यास समारोह में भाग लेने के लिए अटारी-वाघा सीमा को पार कर बुधवार को पाकिस्तान गए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान करतारपुर गलियारा के लिए शिलान्यास करेंगे। पाकिस्तान ने पूर्व में समारोह के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को आमंत्रित किया था। पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों के कारण सुषमा करतारपुर जाने का आमंत्रण स्वीकार नहीं कर पाईं और उन्होंने कहा था कि भारत का प्रतिनिधित्व हरसिमरत कौर और पुरी करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App