ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की अग्निपरीक्षा, 29 अगस्त को होंगे निकाय चुनाव 

साल 2013 में विधान सभा चुनावों से पहले ही निकाय चुनाव कराए गए थे। तब निकाय चुनावों में कांग्रेस ने क्लीन स्विप किया था। बाद में विधान सभा चुनावों में भी कांग्रेस की जीत हुई थी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलते कर्नाटक सीएम कुमरस्वामी। साथ में जेडीएस नेता दानिश अली और कांग्रेस प्रभारी केसी वेणुगोपाल। (फोटो- ANI)

कर्नाटक की एचडी कुमारस्वामी सरकार ने 29 अगस्त को 105 शहरी निकायों में चुनाव कराने का फैसला किया है। गुरुवार (02 अगस्त) को राज्य निर्वाचन आयोग ने इसकी घोषणा कर दी है। माना जा रहा है कि करीब दो महीने पुरानी कांग्रेस-जेडीएस की गठबंधन सरकार के लिए यह अग्निपरीक्षा होगी। इस चुनाव के नतीजे बताएंगे कि कुमारस्वामी सरकार के प्रति लोगों का नजरिया क्या है? आम चुनावों से पहले होने वाले इस निकाय चुनाव को लोकसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है कि क्या जनता ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन पर मुहर लगाई है या नहीं? दोनों दलों ने निकाय चुनाव में अभी तक गठबंधन के तहत चुनाव लड़ने का फैसला नहीं किया है। उधर, बीजेपी निकाय चुनावों को लेकर उत्साहित है क्योंकि हालिया विधान सभा चुनावों में बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। हालांकि, येदियुरप्पा सरकार बहुमत साबित करने से पहले ही गिर गई।

बता दें कि साल 2013 में विधान सभा चुनावों से पहले ही निकाय चुनाव कराए गए थे। तब निकाय चुनावों में कांग्रेस ने क्लीन स्विप किया था। बाद में विधान सभा चुनावों में भी कांग्रेस की जीत हुई थी। इस बार चुनाव दो चरणों में होंगे। राज्य में कुल 207 शहरी निकाय हैं। कुल 2574 वार्ड पार्षदों की सीटों पर चुनाव होने हैं। इनमें से अधिकांश राज्य के उत्तरी क्षेत्र में हैं। 105 शहरी निकायों में 70 उत्तरी कर्नाटक में आते हैं जहां अलग राज्य के लिए आंदोलन की चेतावनी दी गई थी लेकिन आंदोलन थम गया। बता दें कि उत्तर कर्नाटक प्रत्येक राज्य होरटा समिति ने राज्य के उत्तरी 13 जिलों को मिलाकर एक अलग राज्य बनाने की मांग पर गुरुवार (02 अगस्त) को उत्तर कर्नाटका बंद बुलाया था लेकिन बीजेपी के यू-टर्न लेते ही यह मांग अब ठंडी पड़ गई है।

गठबंधन के तहत निकाय चुनाव लड़ने के सवाल पर कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने एचटी मीडिया से कहा कि लोकसभा चुनाव साथ-साथ लड़ने का फैसला तो दोनों दलों के बीच हुआ है लेकिन अबतक निकाय चुनाव पर चर्चा नहीं हो सकी है। उन्होंने कहा कि जल्द ही कॉर्डिनेशन कमेटी की बैठक होगी और इस पर फैसला लिया जाएगा। जेडीएस महासचिव दानिश अली ने भी कहा कि अभी तक पार्टी ने इस पर फैसला नहीं किया है। उन्होंने कहा कि जल्द ही पार्टी इस पर फैसला करेगी। बता दें कि इससे पहले 2004 और 2006 में ये दल साथ मिलकर चुनाव लड़ चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App