ताज़ा खबर
 

‘भगवान तक शायद ही पहुंचे मंदिर के बाहर की प्रार्थना’, जारी हुआ सर्कुलर

मंदिर के प्रबंधकों का हाल ही में लिया गया अजीबोगरीब और मनमानी से भरा फैसला इन दिनों खूब सुर्खियां बटोर रहा है। कुक्के श्री सुब्रमण्य मंदिर के प्रबंधकों ने ये कहते हुए सर्कुलर जारी किया है कि मंदिर परिसर से बाहर की गई प्रार्थना या पूजा भगवान तक नहीं पहुंचती है।

कुक्‍के श्री सुब्रमण्‍य स्‍वामी मंदिर कर्नाटक के सबसे धनी मंदिरों मेें से एक है। फोटो- kukketemple.com

कर्नाटक के सबसे अमीर मंदिर होने का दर्जा कुक्के श्री सुब्रमण्य मंदिर को हासिल है। इस मंदिर के प्रबंधकों का हाल ही में लिया गया अजीबोगरीब और मनमानी से भरा फैसला इन दिनों खूब सुर्खियां बटोर रहा है। कुक्के श्री सुब्रमण्य मंदिर के प्रबंधकों ने ये कहते हुए सर्कुलर जारी किया है कि मंदिर परिसर से बाहर की गई प्रार्थना या पूजा भगवान तक नहीं पहुंचती है। दक्षिण कर्नाटक में स्थित इस मंदिर ने ये सर्कुलर उन दलालों और बिचौलियों को देखते हुए जारी किया है जो विशेष पूजा के नाम पर श्रद्धालुओं को ठग रहे हैं।

सर्कुलर में, मंदिर के अधिकारियों ने कहा है कि सभी श्रद्धालुओं को बताया जाता है कि मंदिर परिसर के बाहर आयोजित होने वाले किसी भी पूजा-पाठ, फिर चाहें वह नदी के किनारे हो या फिर किसी अन्य मंदिर में, स्वभावत: एक निजी आयोजन है। ऐसा विश्वास है कि ऐसी पूजा या दान भगवान श्री कुक्के सुब्रमण्य स्वामी तक नहीं पहुंचती है।” सर्कुलर में आगे कहा गया है,”मंदिर प्रशासन ये साफ करता है कि उन्होंने किसी भी बिचौलिए या दलाल की नियुक्ति नहीं की है। किसी भी किस्म की सेवा या दान को मंदिर के कार्यालय या उसकी वेबसाइट के अलावा स्वीकार नहीं किया जाता है। अगर अन्य कहीं भी दान या सेवा स्वीकार की जाती है तो वह वैध नहीं है और भगवान की सेवा में स्वीकार नहीं हो रही है।”

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा दक्षिण कर्नाटक के सुल्लिया में स्थित कुक्के श्री सुब्रमण्य स्वामी के मंदिर में पूजा-अर्चना करते हुए। फोटो-पीटीआई

रिपोर्टों के मुताबिक, 10,000 से ज्यादा श्रद्धालु रोज मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं। उनकी मान्यता है कि इससे बुरी शक्तियां उनसे दूर रहेंगी। कुक्के श्री सुब्रमण्य स्वामी मंदिर की सालाना कमाई करीब 95 करोड़ रुपये है। कर्नाटक राज्य में स्थित मुज़रई मंदिरों में ये मंदिर सबसे ज्यादा धनाढ्य है। कुछ मीडिया रिपोर्ट में ऐसा कहा गया है कि पिछले वित्तीय वर्ष में सिर्फ सेवा की मद में मंदिर ने करीब 40 करोड़ रुपये की कमाई की है। ये मंदिर मेंगलुरु से करीब 100 किलोमीटर दूर स्थित है। ये इलाका अपने शिक्षा संस्थानों के लिए मशहूर है।

मीडिया से बात करते हुए मंदिर के कार्यकारी अधिकारी एमएच रविन्द्र ने कहा,”कई दलालों ने भक्तों को भ्रमित करने के लिए अपनी वेबसाइट और अन्य फोरम शुरू कर दिए हैं। ये सीधे-साधे लोगों को निजी पूजा के नाम पर ठगने की कोशिश करते हैं।” वैसे बता दें कि इस मंदिर के हाई प्रोफाइल भक्तों में क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, जवागल श्रीनाथ, रवि शास्त्री, वेंकटेश प्रसाद के अलावा अभिनेता अमिताभ बच्चन, शिल्पा शेट्टी और जूही चावला शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App