ताज़ा खबर
 

कर्नाटक चुनाव: इन हरकतों से खुद अपनी किरकिरी करा रही बीजेपी

चुनाव प्रचार में सिर्फ 10 दिन बचे हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी की तरफ से आज खुद इसकी कमान संभाल ली। उन्होंने चामराजनगर में पहली रैली की।

Author May 1, 2018 14:06 pm
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पीएम नरेंद्र मोदी को माला पहनाते हुए। (Image source – PTI)

कर्नाटक विधान सभा चुनाव का प्रचार-प्रसार जोरों पर है। चूंकि चुनाव प्रचार में सिर्फ 10 दिन बचे हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी की तरफ से आज खुद इसकी कमान संभाल ली। उन्होंने चामराजनगर में पहली रैली की। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया पर जमकर निशाना साधा। हालांकि, आरोप-प्रत्यारोप के इस दौर में बीजेपी और खासकर खुद प्रधानमंत्री मोदी अपनी ही किरकिरी करा रहे हैं। उनके बयान या पार्टी नेताओं द्वारा किए जा रहे काम से हाल के दिनों में बीजेपी की किरकिरी हुई है।

रेप पर राजनीति नहीं: पिछले दिनों जब देश के अलग-अलग हिस्से में एक साथ कई रेप और गैंगरेप की खबरें आईं और विपक्ष ने उस पर सरकार को घेरा तो खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लंदन से कहा कि रेप पर राजनीति नहीं होनी चाहिए लेकिन जब बात आई चुनावी राजनीति की तो बीजेपी ने खुद इस पर राजनीति करनी शुरू कर दी। कर्नाटक चुनावों के मद्देनजर बीजेपी ने अखबारों में रेप और मर्डर को आधार बनाकर बड़े-बड़े चुनावी विज्ञापन छपवाए। ‘डेक्कन हेराल्ड’ अखबार के बेंगलुरु संस्करण में 20 अप्रैल को कर्नाटक बीजेपी ने सिद्धारमैया सरकार के खिलाफ रेप, मर्डर और बिगड़ती कानून-व्यवस्था को मुद्दा बनाकर राज्य में बदलाव के लिए वोट देने की अपील की।

डेक्कन हेराल्ड के बेंगलुरु संस्करण में 20 अप्रैल को छपे कर्नाटक बीजेपी के विज्ञापन का स्क्रीनशॉट।

भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कर्नाटक की चुनावी रैलियों में कई बार भ्रष्टाचार का राग अलाप चुके हैं लेकिन बीजेपी ने कई ऐसे लोगों को चुनावी टिकट दिया है, जिन पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं। सेंट्रल कर्नाटक में अच्छा प्रभाव रखने वाले और खनन घोटाले में आरोपी रहे रेड्डी ब्रदर्स को भी टिकट दिया है।

परिवारवाद नहीं: पीएम मोदी ने आज ही चामराजनगर की जनसभा में कांग्रेस पर परिवारवाद की राजनीति का आरोप मढ़ा और कहा कि सीएम 2 प्लस वन फार्मूला और मंत्री वन प्लस वन फार्मूला पर टिकट लेकर परिवारवाद की राजनीति कर रहे हैं। उन्होंने सीएम सिद्धारमैया के दो सीटों पर लड़ने और उनके बेटे यतीन्द्र को टिकट दिए जाने पर तंज कसा। हालांकि, बीजेपी भी परिवारवाद के ठप्पे से बाहर नहीं निकल सकी है। सिर्फ रेड्डी ब्रदर्स और उनके कुनबे के ही सात लोगों को टिकट दिया गया है। टिकट पाने वालों में पूर्व मंत्री और खनन घोटाले में आरोपी रहे जनार्दन रेड्डी के बड़े भाई जी करुणाकर रेड्डी भी शामिल हैं। इन्हें बीजेपी ने हरापनहल्ली से उम्मीदवार बनाया है। इनके अलावा दूसरे रेड्डी बंधु जी सोमशेखर रेड्डी को बेल्लारी सिटी से मैदान में उतारा गया है। रेड्डी बंधुओं के करीबी बी श्रीरामलू को मोलकालमुरु, रिश्तेदार सन्ना फकीरप्पा को बेल्लारी ग्रामीण, टी एच सुरेश बाबू को कंपली सीट और एक्टर साईंकुमार को बोगेपल्ली से टिकट दिया गया है।

जाति-धर्म की राजनीति नहीं: बीजेपी अध्यक्ष और पीएम मोदी ने अक्सर कांग्रेस पर अल्पसंख्यक तुष्टिकरण और जाति-धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाया है। लिंगायतों को धार्मिक अल्पसंख्यक दर्जा देने को भी बीजेपी ने वोट के लिए समाज को बांटने की साजिश करार दिया मगर जब खुद की बात आई तो बीजेपी कर्नाटक समेत देशभर में दलितों के घर भोजन करने और कर्नाटक के लिंगायत मठों में माथा टेकने से पीछे नहीं हटी। बीजेपी अध्यक्ष पिछले दिनों में दर्जन भर से ज्यादा मठों में माथा टेक चुके हैं। पीएम मोदी भी आज उड्डुपी में श्रीकृष्ण मठ जाएंगे। माना जा रहा है कि अगले 5 दिनों में प्रधानमंत्री यहां 15 रैलियां करेंगे और वोटरों को बीजेपी के पक्ष में लामबंद करने की कोशिश करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App