ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: 15-20 कांग्रेसी विधायक कर सकते हैं बगावत? कुमारस्वामी सरकार पर मंडरा रहा खतरा!

कर्नाटक के असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों ने आज (शनिवार, 09 जून) पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। बावजूद इसके कोई समाधान नहीं निकल सका है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, कर्नाटक के पूर्व सीएम सिद्धारमैया, कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष जी परमेश्वर और लोकसभा में पार्टी के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे। (फोटो-PTI)

कर्नाटक के असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों ने आज (शनिवार, 09 जून) पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। बावजूद इसके कोई समाधान नहीं निकल सका है। गठबंधन सरकार में मंत्री नहीं बनाए जाने से नाराज चल रहे विधायकों की संख्या 15 से 20 के आसपास है। एमबी पाटिल ने इन विधायकों का नेतृत्व करते हुए शनिवार को पार्टी अध्यक्ष से मुलाकात की। पार्टी आलाकमान से मुलाकात के बाद पाटिल ने कहा कि 15-20 विधायकों से चर्चा के बाद अगले कदम के बारे में फैसला किया जाएगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव तथा राज्य के मंत्री कृष्णा बी गौड़ा भी इस बैठक में उपस्थित थे।

गौड़ा ने कहा, ‘‘हम मतभेद दूर करने के प्रयास कर रहे हैं। अभी बातचीत चल रही है। अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है।’’ पाटिल ने कहा, ‘‘मैंने राहुल गांधी के साथ अपने विचार साझा किए और राज्य में हालात के बारे में बताया। मैं कुछ मांग नहीं रहा हूं।’’ लिंगायत समुदाय से आने वाले पाटिल ने कहा कि उनका कांग्रेस छोड़ने का कोई इरादा नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि वह प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की दौड़ में भी नहीं हैं।

उधर, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बी एस येदियुरप्पा ने शनिवार को ही दावा किया कि कांग्रेस और जेडीएस के कई नाराज विधायक उसके संपर्क में हैं और बीजेपी में शामिल होने को इच्छुक हैं। येदियुरप्पा का बयान ऐसे समय में आया है जब कांग्रेस के 15-20 विधायकों की नाराजगी की खबरें आम हो चुकी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से कहा कि वे मजबूत विपक्ष के रूप में काम करें और 2019 के लोकसभा चुनावों की तैयारी करें।

येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘कांग्रेस और जेडीएस के कई असंतुष्ट नेता बीजेपी में शामिल होने के लिए उत्सुक हैं।’’ पार्टी सदस्यों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘जेडीएस एवं कांग्रेस से असंतुष्ट लोगों को शामिल करना हमारी जिम्मेदारी है।’’ येदियुरप्पा ने कहा कि विधानसभा में 104 सदस्यों के साथ पार्टी के पास पूरी ताकत है और हमें मजबूत विपक्ष के तौर पर काम करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘यह सरकार कितने दिनों तक चलेगी, यह अलग मामला है, लेकिन सत्ता की आकांक्षा पाले बगैर हम सभी 104 सदस्यों को अपने अच्छे कार्यों से सफल विपक्ष के तौर पर काम करना चाहिए।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App