ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: बाढ़ पीड़ितों की ओर बिस्किट के पैकेट उछालते कैमरे में कैद हुए मुख्यमंत्री के भाई

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बड़े भाई और राज्य के लोक​ निर्माण मंत्री एचडी रेवन्ना ने बाढ़ पीड़ितों की और बिस्किट उछालकर नया विवाद खड़ा कर दिया है। ये वाकया हासन जिले के रामानाथपुरा का है।

बाढ़ पीड़ितों की तरफ बिस्किट के पैकेट उछालते मंत्री एचडी रेवन्ना। फोटो- Twitter/@Aish17aer

कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्वामी और उनका परिवार पहले ही राज्य के लोगों की समस्याओं का समाधान करने में नाकाम रहा है। लोग भयंकर बारिश के बाद डूबी हुई सड़कों, अंधेरे और कमजोर कनेक्टिविटी की समस्याओं से दो-चार हो रहे हैं। लेकिन अब मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बड़े भाई और राज्य के लोक​ निर्माण मंत्री एचडी रेवन्ना ने बाढ़ पीड़ितों की और बिस्किट उछालकर नया विवाद खड़ा कर दिया है। ये वाकया हासन जिले के रामानाथपुरा का है।

वाकया रविवार (19 अगस्त) की शाम का है। रविवार की शाम को रेवन्ना को लोगों की तरफ बिस्किट के पैकेट उछालते हुए देखा गया। ये वीडियो अब वायरल हो रहा है। ये राज्य में सत्तारूढ़ जनता दल सेक्युलर के लिए भी असहज करने वाली स्थिति है। सूत्रों के मुताबिक, रेवन्ना हासन जिले के रामानाथपुरा कस्बे के स्कूल में बनाए गए राहत शिविर के दौरे पर गए थे। ये राहत शिविर कावेरी नदी के किनारे बसाया गया था। रेवन्ना के साथ अरकलगुड के विधायक एटी रामास्वामी और पार्टी के कई वरिष्ठ नेता थे। अपने दौरे के दौरान, रेवन्ना को बिस्किट और खाने के पैकेट बांटने थे।

राहत शिविर में बाढ़ प्रभावित लोगों से बातचीत करने के बाद रेवन्ना ने लोगों में खाने के पार्सल और बिस्किट के पैकेट बांटने शुरू कर दिए। शुरुआत में उन्होंने लोगों को बिस्किट के पैकेट हाथ में दिए लेकिन बाद में उन्होंने भीड़ की तरफ पैकेटों को उछालना शुरू कर दिया। भीड़ में ज्यादातर संख्या महिलाओं और बच्चों की थी। इस वीडियो को रेवन्ना के साथ आए हुए किसी शख्स ने ही शूट किया है।

मंत्री एचडी रेवन्ना की इस हरकत का राज्य में विपक्ष में बैठी भाजपा ने कड़ा विरोध किया है। भाजपा के महासचिव सीटी रवि ने कहा कि इस तरह का व्यवहार हमारी संस्कृति नहीं है। रवि ने कहा,”दर्द से परेशान लोगों तक मदद पहुंचाना हमारा कर्तव्य है लेकिन उनकी तरफ खाना उछालना हमारी संस्कृति नहीं है। वहीं हासन जिले के सामाजिक कार्यकर्ता रमेशप्पा ने मीडिया से कहा, मंत्री को लोगों के दुखों के प्रति संवेदनशील होना चाहिए। उन्हें लोगों के साथ इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए। उन्हें लोगों के दुख और तकलीफों को बांटने की कोशिश करनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App