scorecardresearch

ज्ञानवापी के बाद कर्नाटक में विवादः मस्जिद के नीचे वास्तुशिल्प मिलने का दावा, पूजा करने पहुंचे VHP नेता हिरासत में, धारा 144 लागू

मस्जिद के जीर्णोद्धार का कार्य चल रहा था, उसी दौरान मंदिर संरचना मिली जिससे विवाद पैदा हो गया था।

Gyanwapi Mosque| manglore| masjid |
ज्ञानवापी परिसर (फोटो: पीटीआई)

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद अभी जारी ही है कि मेंगलुरु में एक मस्जिद को लेकर विवाद छिड़ गया है और मस्जिद के पास भारी पुलिसबल को तैनात कर दिया गया है। हिंदू दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं द्वारा मस्जिद के पास धार्मिक अनुष्ठान करने की योजना बनाने के बाद मेंगलुरु पुलिस को मंगलवार को मलाली में असैयद अदबुल्लाहिल मदनी मस्जिद के आसपास धारा 144 लगानी पड़ी थी।

हाल ही में मलाली मस्जिद के जीर्णोद्धार का कार्य चल रहा था, उसी दौरान मंदिर संरचना मिली जिससे विवाद पैदा हो गया था। ऐसा लग रहा था कि मामला सुलझ गया था क्योंकि अदालत द्वारा काम रोकने के आदेश के बाद हिंदू कार्यकर्ताओं ने इस मुद्दे को नहीं उठाया। वहीं अब विश्व हिंदू परिषद (VHP) और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने पुजारियों के सामने ‘तंबुला प्रश्न’ उठाकर पारंपरिक तरीके से सच्चाई का पता लगाने का फैसला किया है।

बुधवार सुबह वीएचपी के कार्यकर्ता मस्जिद में पूजा करने पहुंचे थे और इसके बाद खूब हंगामा हुआ। पुलिस ने वीएचपी कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया क्योंकि इलाके में धारा 144 लगी हुई थी। वीएचपी के कार्यकर्ता काफी बड़ी संख्या में पहुंचे थे और कार्यकर्ता पूजा करने को लेकर हंगामा कर रहे थे। इलाके में पहले से ही पुलिस बल की तैनाती की गई थी।

मलाली मेंगलुरु के करीब में स्थित है, जिसे सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्र माना जाता है। यहां कोई भी गड़बड़ी बगल के तीनों तटीय जिलों को प्रभावित करेगी। यह इलाका भाजपा का गढ़ माना जाता है। मंगलुरु शहर के पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार ने मंगलवार को ही मस्जिद और उसके आसपास धारा 144 लगाने का आदेश दे दिया था।

यह कर्नाटक की दूसरी मस्जिद है जो हिंदू दक्षिणपंथी संगठनों के निशाने पर आई है। हिंदू दक्षिणपंथी संगठन नरेंद्र मोदी विचार मंच ने हाल ही में जिला प्रशासन से संपर्क कर दावा किया था कि बेंगलुरु से 120 किलोमीटर दूर श्रीरंगपटना में जामिया मस्जिद एक हनुमान मंदिर पर बनाया गया था। इसे 1700 के दशक में टीपू सुल्तान ने बनवाया था। ज्ञानवापी विवाद बढ़ने के बाद क़ुतुब मीनार और ताज महल को लेकर भी विवाद शुरू हो गया है।

पढें कर्नाटक (Karnataka News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.