ताज़ा खबर
 

बेंगलुरु में छापा: छिपा रखे थे 2.25 करोड़ के नए नोट, बुजुर्ग महिला के साथ दो कुत्तों को बना रखा था पहरेदार

अधिकारियों ने कहा कि विभाग के अधिकारियों को एक गुप्त सूचना मिली कि यशवंतपुर क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में कुछ नकदी है लेकिन वे कल छापे को अंजाम नहीं दे सके।

Author बेंगलुरू | December 14, 2016 8:21 PM
2000 के नए नोट। (Photo:PTI)

आयकर विभाग ने कर्नाटक और गोवा से बुधवार को कुल 3.57 करोड़ रूपए की नकदी जब्त की जिसमें से 2.93 करोड़ रूपए नए नोटों में हैं। इसमें से बड़ी राशि बेंगलुरु के एक फ्लैट से जब्त की गई जिसकी सुरक्षा के लिये दो खूंखार कुत्तों और एक वृद्ध महिला को रखा गया था। अधिकारियों ने कहा कि विभाग के अधिकारियों को एक गुप्त सूचना मिली कि यशवंतपुर क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में कुछ नकदी है लेकिन वे कल छापे को अंजाम नहीं दे सके। ऐसा इसलिए क्योंकि फ्लैट में रहने वाली वृद्ध महिला ने आयकर अधिकारियों के साथ सहयोग करने और अपने दो कुत्तों को बांधने से इनकार कर दिया।

आखिर अधिकारियों ने स्थानीय पुलिस और स्थानीय लोगों की मदद से प्रवेश किया और पाया कि वहां एक कमरा बंद था। आयकर विभाग की टीम ने पाया कि एक व्यक्ति ने तड़के फ्लैट का दौरा किया था। विभाग की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘बंद कमरे को खोला गया और 2.89 करोड़ बेहिसाबी रूपए जब्त किए गए जिसमें से 2.25 करोड़ रूपये दो हजार रूपए के नए नोट में थे।’ बयान में कहा गया, ‘पूरी नकदी जब्त कर ली गई है और इस मामले में आगे की जांच जारी है।’

एक अलग मामले में गोवा की राजधानी पणजी में विभाग में दो हजार रूपए के नए नोट में 67.98 लाख रूपए एक व्यक्ति से जब्त किए। यह व्यक्ति उन आयकर अधिकारियों से मिला जो नकदी की खोज में फर्जी ग्राहक बने हुए थे। बयान में कहा गया, ‘राशि महाराष्ट्र…गोवा सीमा पर स्थित बंदा नाम के स्थान पर जब्त की गई।’

नोटबंदी के बाद विभाग की कर्नाटक एवं गोवा स्थित जांच इकाइयों ने कुल 29.86 करोड़ रूपए जब्त किए, जिसमें से 20.22 करोड़ रूपये नये नोट में, 41.6 किलोग्राम सर्राफा और 14 किलोग्राम जेवरात शामिल हैं। विभाग ने कहा कि उसने इन दो राज्यों में अपने 36 अभियानों के तहत 1000 करोड़ रूपये की बेहिसाबी राशि का पता लगाया है।

वीडियो में देखें- नोटबंदी के बाद नोटों की बरामदगी का सिलसिला जारी; ठाणे पुलिस ने बरामद किए 1.04 करोड़ रुपए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App