ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता ने लगाया आरोप, नेशनल हेरल्ड के ‘रीलॉन्च’ के लिए कांग्रेस ने रद्द किया कर्नाटक विधान सभा का सत्र

जवाहरलाल नेहरू द्वारा 1938 में शुरू किए गया अखबार नेशनल हेरल्ड अब साप्ताहिक रूप से प्रकाशित होगा।

नेशरल हेरल्ड अखबार 1938 में पंडित जवाहरलाल नेहरू ने शुरू किया था। (तस्वीर- राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट)

जवाहरलाल नेहरू द्वारा स्थापित अखबार नेशनल हेरल्ड सोमवार (12 जून) को कर्नाटक के बेंगलुरु में दोबारा लॉन्च किया गया। जवाहरलाल नेहरू द्वारा 1938 में शुरू किया गया ये अखबार अब साप्ताहिक रूप से प्रकाशित होगा। उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने आजादी की 70वीं वर्षगाठ के मौके पर नेशनल हेरल्ड की एक विशेष स्मारिका भी लॉन्च की। वहीं भारतीय जनता पार्टी की महिला मोर्चा की कार्यकारिणी की सदस्य प्रीति गांधी ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए आरोप लगाया है कि कर्नाटक विधान सभा का सत्र सोमवार को इसलिए रद्द कर दिया गया ताकि उसके नेता अखबार के रीलॉन्च कार्यक्रम में शामिल हो सकें। प्रीति गांधी ने ट्वीट किया, “कर्नाटक विधान सभा का सत्र आज रद्द कर दिया गया क्योंकि कांग्रेस नेताओं को नेशनल हेरल्ड के लॉन्च में शामिल होना था। सत्ता का खुला दुरुपयोग!” कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया भी इस कार्यक्रम में शामिल थे।

सोमवार को कांग्रेस ने “इंडिया एट क्रॉसरोड्स: 70 ईयर्स ऑफ इंडिपेंडेंस” नामक स्मारिका लॉन्च की। राहुल गांधी समेत कांग्रेस के कई नेताओं ने नेशनल हेरल्ड के रीलॉन्च से जुड़े ट्वीट किए। नेशनल हेरल्ड का ऑनलाइन संस्करण पिछले साल ही लॉन्च हो गया था। साप्ताहिक अखबार के रूप में लॉन्च किए जाने के मौके पर नेशनल हेरल्ड ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का एक साक्षात्कार भी प्रकाशित किया है। साल 2008 में नेशनल हेरल्ड करीब 90 करोड़ कर्ज में डूब जाने के कारण बंद हो गया था। नेशनल हेरल्ड के संपादन की जिम्मेदारी आउटलुक हिन्दी के पूर्व संपादक नीलाभ मिश्रा को सौंपी गई है।

माना जा रहा है कि कर्नाटक में पार्टी के सत्ता होने के कारण नेशनल हेरल्ड के प्रिंट एडिशन के री-लॉन्च के लिए चुना गया, जबकि अखबार का मुख्यालय दिल्ली में है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 20 जून को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी दिल्ली में भी साप्ताहिक अखबार के तौर पर नेशनल हेरल्ड को रीलॉन्च करेंगे। नेशनल हेरल्ड तब विवाद में आया था जब इसका स्वामित्व रखने वाले कंपनी को कांग्रेस के पार्टी खाते से पैसा देकर खरीदकर उसकी पांच हजार करोड़ की संपत्ति पर कब्जा करने का आरोप लगा था। भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने यंग इंडिया कंपनी बनाकर अखबार की परिसंपत्तियों को हथिया लिया। हालांकि गांधी परिवार इन आरोपों से इनकार करता रहा है।

वीडियो- कर्नाटक चुनाव जीतने के लिए अपने नेताओं को “परिक्रमा” करवाएंगे राहुल गांधी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App