ताज़ा खबर
 

ट्रांसफर का आदेश मिलने पर कर्नाटक हाई कोर्ट के जज जयंत पटेल ने दिया इस्तीफा, विरोध में गुजरात के वकील करेंगे हड़ताल

जस्टिस जयंत पटेल गुजरात हाई कोर्ट की उस डिविजन बेंच के सदस्य थे जिसने साल 2011 में इशरत जहां केस की सीबीआई जांच का आदेश दिया था।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

कर्नाटक हाई कोर्ट के जज जयंत पटेल ने सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम द्वारा इलाहाबाद हाई कोर्ट में ट्रांसफर किए जाने के बाद इस्तीफा दे दिया। जस्टिस पटेल ने इकोनॉमिक्स टाइम्स अखबार से बातचीत में कहा कि सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने उनसे पूछा कि “आपका ट्रांसफर इलाहाबाद क्यों न किया जाए?” रिपोर्ट के अनुसार जस्टिस पटेल ने इलाहाबाद जाने से इनकार करते हुए इस्तीफा दे दिया। पटेल ने ईटी से कहा कि वो एक संवैधानिक पद पर थे इसलिए उनके इस्तीफे को स्वीकार या अस्वीकार करने का सवाल नहीं उठता। जस्टिस पटेल को ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ न्यायाधीश माना जाता है।

जस्टिस पटेल ने अखबार को अपने इस्तीफे की प्रति भी दिखायी जो उन्होंने कर्नाटक हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को भेजी है। रिपोर्ट के अनुसार जस्टिस पटेल कर्नाटक हाई कोर्ट में दूसरे सबसे वरिष्ठ जज थे। अनुमान लगाया जा रहा था कि कर्नाटक हाई कोर्ट के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश एसएन मुखर्जी के रिटायर होने के बाद वो मुख्य न्यायाधीश बनने वाले थे। जस्टिस मुखर्जी नौ अक्टूबर को रिटायर होने वाले हैं। सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने 15 सितंबर को जस्टिस पटेल के ट्रांसफर का फैसला लिया। माना जा रहा है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट में जाने पर जस्टिस पटेल कई अन्य जजों से कनिष्ठ हो जाते।

ईटी के अनुसार जस्टिस पटेल गुजरात हाई कोर्ट की उस डिविजन बेंच के सदस्य थे जिसने साल 2011 में इशरत जहां केस की सीबीआई जांच का आदेश दिया था। कर्नाटक हाई कोर्ट में ट्रांसफर किए जाने से पहले जस्टिस पटेल गुजरात हाई कोर्ट के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश रह चुके थे। रिपोर्ट के अनुसार गुजरात बार एसोसिएशन ने सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम के फैसले के खिलाफ बुधवार (27 सितंबर) को हड़ताल का आह्वान किया है।

सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम में देश के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस चेलेश्वरम, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कूरियन जोसफ सदस्य हैं। सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम में भारत के मुख्य न्यायाधीश समेत सर्वोच्च न्यायालय के पांच वरिष्ठतम जज सदस्य होते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.