ताज़ा खबर
 

जली हुई लाश, अधजली चप्पलें और एक बोतल, पुलिस ने यूं ढूंढ निकाला कातिल

पुलिस ने लाश के पास मिले खाली बोतल से अपनी जांच की शुरुआत की। पुलिस ने आसपास के उन सभी स्थानों के सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू किया जहां पेट्रोल या केरोसिन मिलता था। करीब 200 सीसीटीवी फुटेज की पड़ताल के लिए पुलिस की छह टीमें बनाई गईं। जल्दी ही एक तस्वीर में नजर आया कि एक शख्स ने जेबी नगर के पास से 6 अप्रैल की रात पेट्रोल खरीदा।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

कहते हैं क्राइम कभी छिपता नहीं और क्रिमिनल कभी बचता नहीं। अपराधी चाहे कितना भी शातिर क्यों ना हो अपराध के बाद वो कोई ना कोई ऐसा सबूत जरूर छोड़ जाता है, जिससे कानून के हाथ उस तक पहुंच ही जाते हैं। बेंगलुरु मे पुलिस ने कुछ ऐसे ही अपराधियों को पकड़ा जिन्होंने बड़ी शातिराना ढंग से एक कत्ल को अंजाम दिया। दरअसल केमपापुरा मेन रोड के पास पुलिस ने बीते 7 अप्रैल को एक बुरी तरह जली हुई लाश बरामद की। पहली नजर में ही पुलिस को ऐसा लग गया था कि यह मामला मर्डर का है। लेकिन उस वक्त कातिल तक पहुंचने के लिए पुलिस के हाथों में कोई सुराग नहीं था सिवाय एक जोड़ी अधजले चप्पल और एक  खाली बोतल के जो लाश के बिल्कुल पास पड़े थे।

पुलिस ने लाश के पास मिले खाली बोतल से अपनी जांच की शुरुआत की। पुलिस ने आसपास के उन सभी स्थानों के सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू किया जहां पेट्रोल या केरोसिन मिलता था। करीब 200 सीसीटीवी फुटेज की पड़ताल के लिए पुलिस की छह टीमें बनाई गईं। जल्दी ही एक फुटेज में नजर आया कि एक शख्स ने जेबी नगर के पास से 6 अप्रैल की रात पेट्रोल खरीदा। ध्यान से देखने पर यह भी पता चला कि इस शख्स के साथ दो अन्य लोग भी थे। यह लोग किराये की एक गाड़ी से पेट्रोल खरीदने पहुंचे थे। इनमे से एक शख्स ने वैसी ही चप्पल पहन रखी थी जैसी चप्पल पुलिस को जली हुई लाश के पास से बरामद हुई थी।

फुटेज में दिख रहे कार के नंबर के जरिए पुलिस इंदिरनगर स्थित उस कंपनी में पहुंची जहां से यह कार किराये पर ली गई थी। कार को किराये पर लेते वक्त इन तीन लोगों ने जो पता दर्ज कराया था वो माराथल्ली इलाके के एक पीजी का था। यह पीजी एन महेश रेड्डी औऱ एस रमी रेड्डी चलाते थे। पुलिस ने बतलाया कि इन दोनों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया कि इन्होंने ही अपने रसोइये मूर्ली की हत्या की है।

पुलिस ने बतलाया कि 30 साल का मूर्ली आंध्र प्रदेश का रहने वाला था जो इन दोनों के यहां बतौर रसोइया काम करता था। लेकिन कई बार वेतन, काम के घंटे और छुट्टियों को लेकर मूर्ली का इन दोनों से झगड़ा हुआ था।  6 अप्रैल को मूर्ली, रमी रेड्डी और उनके एक और साथी एन विनिथ ने मिलकर मूर्ली की हत्या कर दी। उसी रात उनलोगों ने एक गाड़ी किराये पर ली और लाश को गाड़ी में डालकर उसे ठिकाने लगाने निकल गए। रास्ते में जीबी नगर से इनलोगों ने पेट्रोल खरीदी और सारे सबूत मिटाने के लिए लाश को जला दिया। पुलिस ने अब हत्या के तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और मामले में आगे की तफ्तीश की जा रही है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App