ताज़ा खबर
 

धर्म अलग था तो होटल ने नहीं द‍िया कमरा, मैनेजर बोला- ह‍िंदू और मुसलमान नहीं कर सकते शादी

शफीक हकीम और दिव्या का आरोप है कि बेंगलुरु स्थित होटल ऑलिव रेजिडेंसी ने इसलिए कमरा नहीं दिया क्योंकि वे दोनों हिंदू और मुसलमान, दो अलग धर्मों से ताल्लुक रखते हैं।
शफीक अपनी पत्नी दिव्या के साथ। (Source: Facebook/ Shafeek Subaida Hakkim )

केरल के एक दंपती ने आरोप लगाए हैं कि बेंगलुरु में उन्हें एक होटल प्रबंधन ने इसलिए कमरा देने से इंकार कर दिया क्योंकि दोनों दूसरे धर्मों से संबंध रखते हैं। शफीक हकीम और दिव्या का आरोप है कि बेंगलुरु स्थित होटल ऑलिव रेजिडेंसी ने इसलिए कमरा नहीं दिया क्योंकि वे दोनों हिंदू और मुसलमान, दो अलग धर्मों से ताल्लुक रखते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शफीक का दावा है कि रिसेप्शन पर मौजूद शख्स ने पहले तो दोनों के नाम रजिस्टर में लिख दिए और बाद में उसे अहसास हुआ कि दोनों नाम अलग-अलग धर्मों से संबंधित हैं। इसके बाद ही रिसेप्शनिस्ट ने कमरा देने से इंकार कर दिया। शफीक के दावे के मुताबिक, रिसेप्शनिस्ट कहता रहा कि वह हिंदू और मुसलमान को साथ रहने के लिए कमरा नहीं दे सकते। कमरा नहीं मिलने के बाद दंपती किसी दूसरे होटल में कमरा ढूंढने के लिए चले गए।

वहीं इन गंभीर आरोपों को लेकर होटल ने भी अपना पक्ष रखा है। समाचार एजंसी एएनआई के मुताबिक, होटल के रिसेप्शनिस्ट और मैनेजर ने अपनी बात कही। रिसेप्शनिस्ट कल्लुरिया ने कहा, “दोनों के सामान और आईडी प्रूफ में गड़बड़ थी और इसी के चलते हमने उन्हें कमरा नहीं दिया था। हमने धार्मिक वजहों से उन्हें कमरा देने से इंकार नहीं किया। यह गलत है।” वहीं होटल के मालिक ने भी कहा, “शुरू में उन्होंने सिर्फ आधे घंटे के लिए कमरा मांगा था, लेकिन जब हमने मना कर दिया तो पूरे दिन के लिए मांगने लगे। उन्होंने हमें यह नहीं बताया था कि वे शादीशुदा हैं।”

शफीक हकीम पेशे से पत्रकार हैं और दिव्या एर्नाकुलम लॉ कॉलेज से पीएचडी की पढ़ाई कर रही हैं। बेंगलुरु के नेशनल लॉ स्कूल में इंटरव्यूह देने के लिए वह अपने पति के साथ आई थीं। शफीक के मुताबिक दोनों सुबह 7 बजे बेंगलुरु पहुंचे थे और दिव्या को 2 बजे इंटरव्यूह के लिए जाना था। ऐसे में दोनों ने होटल प्रबंधन से बहस करने के बजाए दूसरी जगह पर कमरा ढूंढना ज्यादा बेहतर विकल्प समझा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ajay Sharma
    Jul 6, 2017 at 12:20 pm
    kindly change ur headline.....otherwise i file a case again on ur news paper.. logon ko gumrah kar rahe healine galat tarah se likh ke
    (0)(0)
    Reply