ताज़ा खबर
 

टीपू सुल्तान को बलात्कारी बताने वाले केंद्रीय मंत्री पर भड़के वंशज, कानूनी कार्रवाई करने की तैयारी

उन्होंने कर्नाटक सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि एक बलात्कारी, सनकी और हत्यारे के शर्मनाक इवेंट में मुझे आमंत्रित न किया जाए।
Author बेंगलुरु | October 24, 2017 13:08 pm
टीपू सुल्तान 1782 से 1799 तक मैसूर के राजा रहे थे।

रविक भट्टाचार्य

टीपू सुल्तान को बलात्कारी बताने वाले केंद्रीय मंत्री अनंतकुमार हेगड़े के खिलाफ कोलकाता में रहने वाले सुल्तान के वंशज कानूनी कार्रवाई करने के तैयारी कर रहे हैं। हेगड़े ने शुक्रवार को अपने एक ट्वीट के जरिए मैसूर के 18वीं सदी के शासक टीपू सुल्तान को जन बलात्कारी और क्रूर हत्यारा बताया था। इतना ही नहीं हेगड़े ने टीपू सुल्तान की जयंती के अवसर पर रखे गए कार्यक्रम में कर्नाटक के मुख्यमंत्री और उत्तर कन्नड़ डिप्टी कमिश्नर से उन्हें आमंत्रित न करने के लिए कहा। उन्होंने कर्नाटक सरकार को पत्र लिखकर कहा था कि एक बलात्कारी, सनकी और हत्यारे के शर्मनाक इवेंट में मुझे आमंत्रित न किया जाए।

हेगड़े के इस बयान के बाद विवाद खड़ा हो गया है। टीपू सुल्तान के वंशजों का कहना है कि हेगड़े के बयान से उन्हें काफी दुख पहुंचा है। टीपू सुल्तान की छठी पीढ़ी से ताल्लुक रखने वाले बख्तियार अली ने कहा कि मैं अपने परिवार के सभी सदस्यों के साथ एक बैठक करूंगा और हम हेगड़े द्वारा सुल्तान पर दिए विवादित बयान के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे। हेगड़े की यह बात सुनकर मैं हैरान हूं। टीपू सुल्तान एक बहुत ही आदरणीय शासक थे। अली ने कहा कि मैं नहीं जानता कि किस बिनाह पर उन्होंने टीपू सुल्तान की छवि को बिगाड़ने के लिए इस प्रकार के आरोप लगाए हैं। टीपू सुल्तान एक राष्ट्रीय हीरो और टाइगर ऑफ मैसूर थे।

अली प्रिंस मूनीरुद्दीन के वंशज हैं जो कि टीपू सुल्तान के बेटों में से एक थे। अली कोलकाता कोर्ट में वकील के रूप में कार्य करते हैं। उन्होंने बताया कि प्रिंस मूनीरुद्दीन और प्रिंस गोलाम मोहम्मद टीपू सुल्तान के दो बेटे थे जिन्हें अंग्रेजों ने मैसूर से निकालकर कोलकाता भेज दिया था। टीपू सुल्तान के अन्य वंशज शाहिद आलम ने कहा हेगड़े को बिना किसी शर्त के टीपू सुल्तान पर की गई अपनी टिप्पणी पर मांफी मांगनी चाहिए। टीपू सुल्तान को उनकी राष्ट्रीयता के लिए ही जाना जाता है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App