ताज़ा खबर
 

श्री राम सेना के संस्‍थापक ने भी जताया जान का खतरा, बोले- जो तोगड़िया के साथ हुआ वो मेरे साथ भी हो सकता है

उन्होंने कहा "वे पीछे से वार करने में बहुत अच्छे हैं। प्रवीण तोगड़िया के साथ जो हुआ वह मेरे साथ भी हो सकता है।" प्रमोद मुथालिक कर्नाटक में आरएसएस और बजरंग दल के तेजतर्रार नेता हुआ करते थे।

Author बेंगलुरु | January 20, 2018 16:45 pm
श्री राम सेना के संस्थापक प्रमोद मुथालिक। (Photo Source: Facebook)

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया द्वारा किसी से जान का खतरा होने के बाद अब श्री राम सेना के संस्थापक प्रमोद मुथालिक ने आरोप लगाया है कि आरएसएस के कुछ पूर्व साथियों से उन्हें जान का खतरा है। न्यूज़ 18 को दिए इंटरव्यू में प्रमोद मुथालिक ने कहा “मैं अपने दुश्मनों को बहुत अच्छे से जानता हूं। कांग्रेस, बुद्धिजीवी और कम्यूनिस्ट्स मेरे दुश्मन हैं लेकिन इनके बारे में सब जानते हैं। ये लोग मेरे खिलाफ काम करते हैं। मैं केवल उन लोगों को लेकर चिंतित हूं जो मेरे अपने हैं और मुझे नुकसान पहुंचाना चाहते हैं।”

उन्होंने कहा “वे पीछे से वार करने में बहुत अच्छे हैं। प्रवीण तोगड़िया के साथ जो हुआ वह मेरे साथ भी हो सकता है।” प्रमोद मुथालिक ने सीधे तौर पर आरएसएस पर आरोप लगाते हुए कहा “कर्नाटक के वरिष्ठ आरएसएस नेता मंगेश भेंडे मुझे पसंद नहीं करते। उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर और धरवाड़ सांसद प्रहलाद जोशी का समर्थन प्राप्त है। वे मुझे उत्तरी कर्नाटका में नहीं चाहते हैं। मेरे पीछे मेरे अपने ही लोग हैं। उन्हें मेरी लोकप्रियता पसंद नहीं है। उन्हें यह बिलकुल भी पसंद नहीं है कि किसी को नाम और शोहरत मिले।”

मुथालिक ने कहा “मैंने उनके साथ और उनके बिना बहुत उपलब्धियां हासिल की हैं और इसलिए मुझे जबरन संगठन छोड़ने के लिए मजबूर किया गया था।” आपको बता दें कि प्रमोद मुथालिक कर्नाटक में आरएसएस और बजरंग दल के तेजतर्रार नेता हुआ करते थे। दशक पहले उन्होंने संगठन छोड़ खुद का श्री राम सेना संगठन बना लिया था। हाल ही में मुथालिक कर्नाटक यूनिट चीफ के तौर पर शिव सेना में शामिल हुए हैं। वहीं प्रमोद मुथालिक के आरोपों पर बीजेपी और आरएसएस के नेताओं से संपर्क किया गया तो उन्होंने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App