ताज़ा खबर
 

लॉकडाउन में अनाज मांग रहे किसान से बोले मंत्री, बढ़िया है मर जाओ, पत्रकारों के सवाल पर बोले- मेरा दिल बहुत छोटा

कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख डी के शिवकुमार ने कट्टी के बयान के लिए उनकी आलोचना की और राज्य सरकार से उन्हें तुरंत पद से हटाने को कहा। पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने भी कट्टी की आलोचना की।

PDS, Lockdown, karnatakaकर्नाटक के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री उमेश कट्टी। (Photo Source: Facebook/Umesh Katti)

कर्नाटक के खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री उमेश कट्टी अपने विवादित बयान के लिए बुधवार को मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा और विपक्षी दलों के निशाने पर आ गए। कट्टी से एक किसान ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के जरिए चावल की आपूर्ति बढ़ाने का अनुरोध किया जिस पर उन्होंने किसान से मर जाने को कहा था। पत्रकारों के पूछने पर उन्होंने कहा कि उनका दिल बहुत छोटा है।

कट्टी ने बाद में अपना बयान वापस लेते हुए खेद जताया और कहा कि वह नहीं चाहते कि किसी की मौत हो और हर कोई समृद्ध बने।
उत्तरी कर्नाटक के गडग के किसान कार्यकर्ता ईश्वर ने बुधवार को कट्टी को फोन किया था और उनसे पूछा कि एक महीने में दो किलो चावल के सहारे कोई कैसे जीवित रह सकता है जब लॉकडाउन के कारण हजारों लोग बेरोजगार हो गए हैं।

ईश्वर के सवाल पर मंत्री ने जवाब दिया कि लॉकडाउन के मद्देनजर मई और जून में केंद्र पांच किलो अनाज देगा। इस पर किसान ने कहा कि क्या लोगों को तब तक उपवास करना चाहिए या मर जाए। कट्टी ने कहा, “बेहतर होगा मर जाए। बेहतर होगा कि आप चावल का व्यापार करना बंद कर दें। मुझे दोबारा फोन मत करना।” मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी एक बयान में येदियुरप्पा के हवाले से बताया गया कि उन्होंने कट्टी के बयान को खारिज किया और कहा कि किसी मंत्री को इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए।

कांग्रेस के प्रदेश प्रमुख डी के शिवकुमार ने कट्टी के बयान के लिए उनकी आलोचना की और राज्य सरकार से उन्हें तुरंत पद से हटाने को कहा। पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने भी कट्टी की आलोचना की।

Next Stories
1 कानपुरः रोते हुए बोली महिला- सुबह कहा था ठीक हैं, फिर बोले अब नहीं रहे, कहा- मरीजों को मारते हैं डॉक्टर
2 अस्पताल का हाल बेहालः वार्ड में कोविड और नॉन कोविड मरीज एक साथ करा रहे इलाज, मरीज बोले- ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही
3 कोरोना संकट के दौर में भी भाजपा की मेगा रैली, हाई कोर्ट की भी नहीं सुनी
आज का राशिफल
X