ताज़ा खबर
 

कर्नाटक सरकार ने बैन की पब्लिक लाइब्रेरी में ‘राम मंदिर’ वाली किताब, गौरी लंकेश हत्या के मामले से जुड़े हैं लेखक

लेखक केएस भगवान ने कहा, “मैं अपनी पुस्तक को पुस्तकालय खरीद सूची से हटाने का विरोध करता हूं और सार्वजनिक पुस्तकालय सभी के लिए हैं और सभी को सभी तर्कों को पढ़ने का अधिकार है। सरकार सार्वजनिक पुस्तकालयों को एक विचारधारा के लिए बंधक नहीं बना सकती है।”

Zahara Begum, vijayawada, tahera trust, ram mandir donation, ram mandir, ram temple, ram mandir ayodya, ram mandir muslim, muslim woman raises funds for ram templeअयोध्या में राम मंदिर (स्रोत-ट्विटर)।

दर्शन देवैया बी.पी.

कर्नाटक सरकार ने तर्कवादी केएस भगवान की पुस्तक ‘रामा मंदिरा येके बेडा’ (राम मंदिर की आवश्यकता क्यों नहीं है) को अपने सार्वजनिक पुस्तकालयों से प्रतिबंधित कर दिया। शिक्षा मंत्री एस सुरेश कुमार ने कहा, “पुस्तक सार्वजनिक भावनाओं को आहत कर सकती है और मैं सार्वजनिक पुस्तकालयों में इस तरह की पुस्तक को प्रोत्साहित नहीं करूंगा।”

हिंदुत्ववादी दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं द्वारा चलाए गए सोशल मीडिया अभियान के बाद, सार्वजनिक पुस्तकालय पुस्तक चयन समिति ने पुस्तक खरीदने की अपनी सिफारिश वापस ले ली, जो 2018 में प्रकाशित हुई थी।

इंडियन एक्सप्रेस.काम से बात करते हुए केएस भगवान ने कहा, “मैं अपनी पुस्तक को पुस्तकालय खरीद सूची से हटाने का विरोध करता हूं और सार्वजनिक पुस्तकालय सभी के लिए हैं और सभी को सभी तर्कों को पढ़ने का अधिकार है। सरकार सार्वजनिक पुस्तकालयों को एक विचारधारा के लिए बंधक नहीं बना सकती है।”

उन्होंने कहा, “पहले ही दो वर्षों में मेरी पुस्तक के तीन संस्करण आ चुके हैं और अब यह चौथे संस्करण के लिए जा रहा है। मेरा इरादा लोगों की किसी भी धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना नहीं है, अगर आप किताब पढ़ते हैं, तो मैंने वाल्मीकि रामायण की पूर्वधारणा के दायरे में ही बातें लिखी हैं।”

कन्नड़ लेखक डोड्डरंगे गौड़ा की अगुवाई वाली समिति ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि शुरुआत में इस पुस्तक को चयन सूची से बाहर रखा गया था, क्योंकि यह ‘समाज के एक वर्ग की धार्मिक भावनाओं को आहत करता है।’ गौड़ा ने कहा, “बाद में प्रकाशक द्वारा एक समीक्षा याचिका दायर की गई और समिति ने इसे खरीदने के लिए सिफारिश करने का फैसला किया। हालांकि पुस्तक ने भावनाओं को आहत किया, हमने सोचा कि पुस्तक हमारे सार्वजनिक पुस्तकालयों का हिस्सा हो सकती है, पाठकों को विभिन्न दृष्टिकोण प्रदान कर सकती है।” उन्होंने कहा कि आपत्तियों के उठने के बाद समिति ने अपनी सिफारिश वापस लेने का फैसला किया।

“रामा मंदिरा येके बेडा?” महाकाव्य रामायण और राम मंदिर के आसपास की राजनीति के महत्वपूर्ण निबंधों का एक संग्रह है। इससे पहले 2019 में हिंदू जागरण वेदिके ने केएस भगवान के बयान के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी कि भगवान राम ने “नशा” किया था। हिंदू जागरण वेदिके ने भी उसी किताब पर प्रतिबंध लगाने की मांग की जिसमें केएस भगवान ने ये टिप्पणियां की हैं।

इस बीच केएस भगवान ने यह भी कहा कि हाल ही में विश्व हिंदू परिषद और भाजपा के सदस्यों ने राम मंदिर के लिए धन जुटाने के अभियान के तहत उनके घर का दौरा किया था। उन्होंने कहा, “सम्मानजनक तरीके से मैंने उनका स्वागत किया और कहा कि मैं राम मंदिर बनाने के लिए पैसे नहीं दूंगा, और उन्होंने सुझाव दिया कि वे मेरी किताब पढ़ें।”

इससे पहले, भगवान को 30 अगस्त 2015 को धारवाड़ में कन्नड़ विद्वान और शोधकर्ता एमएम कलबुर्गी की हत्या के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर भी धमकी मिली थी। भगवान मैसूरु में महाराजा कॉलेज से सेवानिवृत्त शिक्षक हैं, जहां उन्होंने अंग्रेजी साहित्य पढ़ाया था। भगवान अब एक पूर्णकालिक लेखक हैं और दर्शन, तर्कवाद और धार्मिक ग्रंथों पर वह प्रमुखता से लिखते हैं।

गौरी लंकेश की हत्या की जांच में एक हिंदू युवा सेना के सदस्य की गिरफ्तारी से कुछ समय पहले ही भगवान को मारने की साजिश का खुलासा हुआ था। वह खुद को विवेकानंद और रामकृष्ण परमहंस का अनुयायी कहता है।

Next Stories
1 सुवेंदु अधिकारी ने ममता पर साधा निशाना, कहा- दो सीटों से चुनाव नहीं लड़ने देंगे, पूर्व मंत्री का लेटरहेड तैयार रखें
2 सरकार के साथ बातचीत से पहले बोले राकेश टिकैत, सच कहा तो सजा निश्चित, हन्नान ने कहा- कोई उम्मीद नहीं है
3 7 साल की बच्ची को हवाई यात्रा के दौरान पड़ गया दिल का दौरा, फ्लाइट की हुई इमरजेंसी लैंडिंग, पर नहीं बचाई सकी जान
यह पढ़ा क्या?
X