scorecardresearch

ओला और उबेर जैसी कंपनियों के आटो रिक्शा सर्विस उपलब्ध कराने पर बिफरी कर्नाटक सरकार, दी ये चेतावनी

Karnataka Government: परिवहन विभाग ने कहा कि अगर कैब एग्रीगेटर्स और वाहन मालिकों को सरकारी आदेश का उल्लंघन करते पाया गया तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

ओला और उबेर जैसी कंपनियों के आटो रिक्शा सर्विस उपलब्ध कराने पर बिफरी कर्नाटक सरकार, दी ये चेतावनी
नोटिस में कहा गया है कि कैब एग्रीगेटर्स को केवल कैब सेवाएं देने का लाइसेंस दिया जाता है। (फोटो सोर्स- एक्सप्रेस)

Karnataka Government: कर्नाटक सरकार ने ओला और उबेर जैसी कंपनियों के आटो रिक्शा सर्विस उपलब्ध कराने पर चेतावनी जारी की है। कर्नाटक परिवहन विभाग ने कैब एग्रीगेटर सेवाओं ओला, उबर और बाइक टैक्सी एग्रीगेटर रैपिडो को नोटिस जारी किया है, क्योंकि कई यात्रियों ने इन प्लेटफार्मों के तहत चलने वाले ऑटो रिक्शा द्वारा सर्ज प्राइसिंग की शिकायत की थी।

गुरुवार को जारी अपने सर्कुलर में परिवहन विभाग ने बिना लाइसेंस ऑटोरिक्शा की सवारी की पेशकश के लिए एग्रीगेटर्स की खिंचाई की है और उन्हें अपने ऐप पर सेवा की पेशकश बंद करने के लिए तीन दिन का समय दिया है। विभाग ने कहा कि अगर कैब एग्रीगेटर्स और वाहन मालिकों को सरकारी आदेश का उल्लंघन करते पाया गया तो उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

एक वरिष्ठ परिवहन अधिकारी ने कहा, ‘ऐप्स द्वारा बढ़ती कीमत हमेशा परिवहन विभाग की जांच के दायरे में रही है। बार-बार चेतावनियों के बावजूद कैब एग्रीगेटर्स ने अपने तरीके नहीं बदले हैं। गुरुवार को एक बैठक के बाद हमने कैब एग्रीगेटर्स द्वारा दी जाने वाली ऑटोरिक्शा सुविधाओं को अवैध मानने का फैसला किया है।’

कर्नाटक में यात्रियों की शिकायत के बाद यह फैसला आया है कि ऐप ऑटोरिक्शा की सवारी के लिए 30 रुपये के मुकाबले न्यूनतम 100 रुपये चार्ज कर रहे थे। सरकारी नियमों के अनुसार, ऑटोरिक्शा को पहले दो किलोमीटर के लिए न्यूनतम 30 रुपये और पहले दो किलोमीटर के लिए 15 रुपये चार्ज करना चाहिए। सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि कैब एग्रीगेटर्स को केवल कैब सेवाएं देने का लाइसेंस दिया जाता है।

इसी बीच आदर्श ऑटो और टैक्सी ड्राइवर्स यूनियन, बेंगलुरु और मैसूर के अध्यक्ष एम मंजूनाथ ने कहा, ‘हम ग्राहकों की तरह ओला / उबर के आदी नहीं हैं। हम अपनी सामान्य यात्रा पर स्विच कर सकते हैं और ग्राहकों से मीटर के अनुसार शुल्क ले सकते हैं, लेकिन सरकार और कैब कंपनियां दोनों कई सालों से ऑटो चालकों की जिंदगी तबाह कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि कैब कंपनियां हमारे इंसेंटिव का भुगतान नहीं करती हैं और न ही हमें किसी सर्ज प्राइसिंग का लाभ मिलता है। इस बीच सभी ऑटो चालक मांग कर रहे हैं कि परिवहन विभाग ऑटो सेवाएं देना शुरू करे, लेकिन वे हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इनमें से बहुत से नीतिगत मुद्दों के परिणामस्वरूप ड्राइवरों का नाम खराब हो रहा है और उनकी आजीविका प्रभावित हो रही है।’

तेजस्वी सूर्या ने मुख्यमंत्री को लिखा था पत्र

बेंगलुरु दक्षिण से बीजेपी सांसद तेजस्वी सूर्या ने हाल ही में मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और परिवहन मंत्री बी श्रीरामालू को पत्र लिखकर कहा था कि ऑटोरिक्शा बेंगलुरु में पहली और आखिरी मील की कनेक्टिविटी की रीढ़ हैं। हमें हाल ही में तकनीकी एग्रीगेटर्स द्वारा 30 रुपये की निर्धारित सीमा के मुकाबले 100 रुपये न्यूनतम शुल्क के रूप में चार्ज करने के बारे में कई शिकायतें मिलीं। हम सरकार से सरकारी नियमों और विनियमों के खिलाफ काम करने वाली संस्थाओं के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध करते हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 07-10-2022 at 06:18:52 pm
अपडेट