ताज़ा खबर
 

पूर्व मंत्री ने दर्ज कराई खुद को किडनैप करने की FIR, कहा- किडनैपर को दी 48 लाख फिरौती

पूर्व मंत्री का कहना है कि अपहरणकर्ताओं ने उनसे 30 करोड़ रुपए की फिरौती की मांग की थी और उन्होंने अपने एक दोस्त के जरिए 48 लाख रुपए किडनैपर्स तक पहुंचवाए।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र बेंगलुरु | Updated: December 2, 2020 1:15 PM
Varthur Prakash, Karnatakaकर्नाटक के पूर्व मंत्री वर्तुर प्रकाश। (फोटो- Facebook)

कर्नाटक के एक पूर्व मंत्री ने अपने अपहरण का दावा करते हुए बेंगलुरु के पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई है। पूर्व विधायक वर्तुर प्रकाश का कहना है कि 25 नवंबर को आठ लोगों ने कथित तौर पर उनका अपहरण कर लिया था। किडनैपर्स ने उन्हें छोड़ने के लिए 30 करोड़ रुपए की फिरौती भी मांगी थी। शुरुआती जांच में सामने आया है कि प्रकाश का जमीन को लेकर झगड़ा था और उन्हें कुछ समय से धमकी भरे फोन मिलते थे।

प्रकाश ने मंगलवार को अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि 25 नवंबर को वे और उनका ड्राइवर सुनील कोलार के बेगली होशाहल्ली में फार्महाउस में थे। इसके बाद वे एसयूवी से निकले। शाम करीब 7 बजे आठ लोगों का गैंग दो कारों में सवार हो कर आया और एसयूवी को रोक दिया। गैंग ने कथित तौर पर दोनों को घातक हथियारों के बल पर डराया और प्रकाश को अपनी गाड़ी में बिठा लिया। पूर्व मंत्री का कहना है कि अपहरणकर्ताओं ने उनके हाथ-पैर बांध दिए और उनसे 30 करोड़ रुपए की फिरौती की मांग की। इस दौरान उनके और उनके ड्राइवर के साथ काफी बदसलूकी की गई।

प्रकाश ने एफआईआर में कहा है कि किडनैपरों द्वारा प्रताड़ित किए जाने के बाद उन्होंने अपने दोस्त नयाज को फोन किया और उससे 48 लाख रुपए लाने के लिए कहा। किडनैपरों ने कोलार में पैसे ले लिए, पर प्रकाश और उनके ड्राइवर का टॉर्चर जारी रखा। 27 नवंबर को जब उनका ड्राइवर टॉर्चर के दौरान बेहोश हो गया, तो गैंग ने उसे मरा समझकर कार से बाहर फेंक दिया। पुलिस का कहना है कि सुनील इसके बाद होश में आया और भागने में कामयाब हो गया। इसकी सूचना मिलते ही किडनैपर्स ने प्रकाश को भी गाड़ी से बाहर फेंक दिया और फरार हो गए। आसपास मौजूद लोगों ने प्रकाश को केआरपुरम के अस्पताल पहुंचाया।

इस बीच कुछ असत्यापित पक्षों से सामने आया है कि मंत्री का अपहरण उनके पशु व्यापार में बड़ा कर्जा होने की वजह से हुआ। बताया गया है कि प्रकाश पर तमिलनाडु के किसानों और व्यापारियों का बड़ा बकाया है। इसके अलावा तीन साल पहले ही कोलार की ग्रामीण पुलिस ने वर्तुर प्रकाश पर विधायक रहते हुए एक दलित परिवार की जमीन छीनने के आरोप में एफआईआर दर्ज की थी। उनके साथ छह अन्य लोगों पर फर्जी दस्तावेज बनाने और दलितों को धमकी देने के आरोप लगे थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शादी और धर्म: हरियाणा में निकाह के लिए हिंदू से मुस्लिम बना लड़का; एमपी में दो साल पहले जिसके साथ भागी थी उसे अब कराया गिरफ़्तार
2 किसानों की समस्या का हल नहीं हुआ तो किसी भी केंद्रीय मंत्री को महाराष्ट्र में घुसने नहीं देंगे, शेतकारी संगठन ने दी धमकी
3 राज्यसभा उपचुनाव: लोजपा ने ठुकराया राजद का ऑफर, RJD में उम्मीदवार उतारने पर एक राय नहीं, आज पर्चा भरेंगे सुशील मोदी
आज का राशिफल
X