ताज़ा खबर
 

…तो ज्योतिषियों की सलाह पर टाला जा रहा कर्नाटक में फ्लोर टेस्ट, जानें- एस्ट्रोलॉजर की सलाह और क्या कह रहे नेता

जेडीएस नेता बाबू ने कहा कि अगर कुमारस्वामी ज्योतिषियों और भविष्य बताने वालों की बात मानकर ऐसा करते तो वह अपने 13 महीने की गठबंधन वाली सरकार को लेकर फ्लोर टेस्ट के लिए राजी नहीं होता और ऐसे ही अपनी सरकार बचा लेते।

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ज्योतिषियों की सलाह पर ही फ्लोर टेस्ट में देरी कर रहे हैं।

कर्नाटक में चल रहे सियासी ड्रामें में जयोतिषी विद्या का भी तड़का लगा हुआ है। आप यकीन करें ना करें लेकिन खबरों की मानें तो कर्नाटक में फ्लोर टेस्ट की देरी के पीछे यही कारण हैं। दरअसल, बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ज्योतिषियों की सलाह पर ही फ्लोर टेस्ट में देरी कर रहे हैं।हालांकि, जेडीएस ने ऐसी खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है। जेडीएस के नेता रमेश बाबू का कहना है कि यह खबरें बीजेपी द्वारा प्लांट की गई है। ऐसा कुछ नहीं हुआ था।

Rightlog.in पर छपी एक खबर के अनुसार अगर सोमवार के बदले मंगलवार को विश्वासमत प्रस्ताव होता है तो एचडीकुमार स्वामी की सरकार बची रहेगी। अगर मंगलवार को ऐसा होता है तो वह फ्लोर टेस्ट में जीत हासिल कर लेंगे। हालांकि फ्लोर टेस्ट के लिए 22 जुलाई का दिन तय किया गया है।

जेडीएस नेता बाबू ने कहा कि अगर कुमारस्वामी ज्योतिषियों और भविष्य बताने वालों की बात मानकर ऐसा करते तो वह अपने 13 महीने की गठबंधन वाली सरकार को लेकर फ्लोर टेस्ट के लिए राजी नहीं होता और ऐसे ही अपनी सरकार बचा लेते। बाबू ने कहा कि कुमारस्वामी और उनका गौड़ा कुनबा भगवान और ज्योतिषी इत्यादि में यकीन करता है। कुमारस्वामी ने सदन में शुक्रवार को कहा कि उनके परिवार पर पूजा पाठ और मंदिर में जाकर प्रार्थना करने का आरोप लगाया जा रहा है। बाबू ने कहा कि अगर ऐसा हो रहा है तो इसमें गलत क्या है? किसी धर्म, आस्था और विश्वास का पालन करना कानूनी तौर पर कोई गलत काम नहीं है।

खबरों के मुताबकि कर्नाटक में जेडीएस कांग्रेस की सरकार बचाने के लिए एचडी देवगौड़ा और उनके दोनों बेटे कुमारस्वामी और एचडी रेवन्ना विशेष पूजा पाठ कर रहे हैं। जेडीएस के इन तीन बड़े नेताओं ने ज्योतिषियों से भी संपर्क किया , जहां यह कहा गया कि अगर सोमवार के बाद फ्लोर टेस्ट होता है तो उनकी सरकार बच जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App