ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: खेत में उतरे सीएम एचडी कुमारस्‍वामी, किसान संग की धान की रोपाई

जब कुमारस्वामी से यह पूछा गया कि उनके द्वारा धान की रोपाई करने के कदम को बीजेपी नेता केएस ईश्वरप्पा ने राजनीतिक कदम कहा है, तब कर्नाटक के सीएम ने कहा कि बीजेपी नेता की इस टिप्पणी ने यह दर्शा दिया है कि उनका किसानों के प्रति कैसा बर्ताव है।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी (फोटो सोर्स- ट्विटर/@dp_satish)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी शनिवार यानी 11 अगस्त के दिन किसानों के साथ धान की रोपाई की। किसानों के साथ पारंपरिक पोशाक में धान की रोपाई करते हुए कुमारस्वामी एक दिन के लिए किसान बने। कर्नाटक के सीएम मंड्या जिले के सीथापुरा गांव में पारंरिक धोती पहनकर खेत में उतरे और बाकी किसानों के साथ मिलकर उन्होंने धान की रोपाई की। सीएम द्वारा धान की रोपाई करने का मुख्य उद्देश्य उन किसानों को प्रोत्साहित करना था, जो सूखे के चलते निराश हो चुके थे।

खेत में कदम रखने से पहले कुमारस्वामी अन्जनेया मंदिर गए और प्रार्थना की। गांव के लोगों ने पारंपरिक तरीके से सीएम का स्वागत किया। कलाकार चिक्कापल्या प्रकाश ने खेत को किसी फिल्म के सेट की तरह सजा दिया था। सीएम द्वारा धान की रोपाई करने के इस कार्यक्रम में 105 महिला किसान और 50 पुरुष किसानों ने उनका साथ दिया। करीब पांच एकड़ की जमीन पर धान की रोपाई की गई। इसके साथ ही बैलों के 25 जोड़ों की भी सहायता ली गई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक कुमारस्वामी ने अपने मैसूर के दौरे के दौरान मीडिया से कहा था कि उन्होंने किसानों से वादा किया है कि वह धान की रोपाई करने में हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा था, ‘मैंने किसानों से वादा किया था कि मैं धान की रोपाई में हिस्सा लूंगा। मंड्या के किसानों ने सूखे के चलते पिछले तीन सालों से धान की रोपाई नहीं की है। इस साल राज्य में अच्छी बारिश हुई है। मैं धान की रोपाई में किसानों का साथ देकर उनका हौसला बढ़ाना चाहता हूं।’ जब कुमारस्वामी से यह पूछा गया कि उनके द्वारा धान की रोपाई करने के कदम को बीजेपी नेता केएस ईश्वरप्पा ने राजनीतिक कदम कहा है, तब कर्नाटक के सीएम ने कहा कि बीजेपी नेता की इस टिप्पणी ने यह दर्शा दिया है कि उनका किसानों के प्रति कैसा बर्ताव है। कुमारस्वामी ने कहा कि धान की रोपाई करने में हिस्सा लेना कोई पब्लिसिटी स्टंट नहीं है, लेकिन वह ऐसा करके किसानों को सम्मानित करना चाहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App