ताज़ा खबर
 

इस्तीफा दे सकते हैं कर्नाटक के मुख्यमंत्री, येदियुरप्पा बोले- जो जेपी नड्डा कहेंगे, वही करूंगा

लिंगायत समुदाय के नेता येदियुरप्पा (78) ने यह भी कहा कि पार्टी आलाकमान कर्नाटक के मुख्यमंत्री के तौर पर उनके भविष्य के बारे में 25 जुलाई को उन्हें निर्देश देगा।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र बेंगलुरु | Updated: July 22, 2021 3:12 PM
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने का संकेत देते हुए बी एस येदियुरप्पा ने इस संबंध में लगायी जा रही अटकलों पर पहली बार गुरुवार को चुप्पी तोड़ी और कहा कि वह भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के फैसले का पालन करेंगे।

लिंगायत समुदाय के नेता येदियुरप्पा (78) ने यह भी कहा कि पार्टी आलाकमान कर्नाटक के मुख्यमंत्री के तौर पर उनके भविष्य के बारे में 25 जुलाई को उन्हें निर्देश देगा। येदियुरप्पा सरकार के दो साल 26 जुलाई को पूरे हो जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अमित शाह (गृह मंत्री) और हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा का मेरे प्रति विशेष स्नेह एवं विश्वास है। आप जानते हैं कि उन लोगों को कोई पद नहीं दिया जाता जिनकी उम्र 75 साल से अधिक हो गयी है लेकिन मेरे काम की सराहना करते हुए उन्होंने 78 वर्ष की आयु होने के बावजूद मुझे मौका दिया।’’

यहां पत्रकारों से बातचीत में येदियुरप्पा ने कहा कि उनका इरादा आने वाले दिनों में पार्टी को मजबूत करना और उसे फिर से सत्ता में लाना है। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्रीय नेता 25 जुलाई को मुझे जो भी निर्देश देंगे, उनके आधार पर मैं 26 जुलाई से अपना काम शुरू करूंगा। हमारी सरकार के दो साल पूरे होने के सिलसिले में 26 जुलाई को हमारा एक खास कार्यक्रम है। कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देशों का पालन करूंगा।’’

येदियुरप्पा के खिलाफ खड़े थे पार्टी के ही कई विधायक: गौरतलब है कि बीते काफी समय से चर्चा चल रही थी कि येदियुरप्पा की तबियत खराब रह रही है। इसके अलावा पार्टी के कुछ विधायक और कर्नाटक से एक सांसद ने भी उनके खिलाफ बयान दिया था, जिसके बाद येदियुरप्पा के इस पद से खुद ही हट जाने की अटकलें लगाई जानें लगीं। हालांकि, लिंगायत वोट बैंक पर एकछत्र राज करने वाले येदियुरप्पा को हटाना भाजपा आलाकमान के लिए आसान बात नहीं होती।

पीएम को इस्तीफे की पेशकश कर चुके थे येदियुरप्पा?: बता दें कि हाल ही में कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि येदियुरप्पा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात में अपने इस्तीफे की पेशकश कर दी। बताया गया था कि पीएम के साथ बैठक के दौरान ख़राब स्वास्थ्य की वजह से येदियुरप्पा ने उन्हें अपने इस्तीफे की पेशकश की। साथ ही उन्होंने इस शर्त पर इस्तीफा देने की पेशकश की है कि उनके बाद उनके बेटे को पार्टी की राज्य इकाई में एक सम्मानजनक पद दिया जाएगा।

Next Stories
1 जब मंडप से दूल्हे को लेकर भाग गई घोड़ी, बारातियों ने दूर तक पीछा कर पकड़ा
2 जम्मू-कश्मीरः लॉकडाउन में कम हुई थीं आतंकी गतिविधियां, 12 दिनों में मारे गए 15 आतंकी
3 योगी के मंत्री ने खाई कसम, जब तक कोरोना खत्म नहीं होगा, अन्न नहीं ग्रहण करूंगा
यह पढ़ा क्या?
X