ताज़ा खबर
 

BJP के सत्ता में आने के बाद CM का पोता बना था 2 फर्म में डायरेक्टर, 7 शेल कंपनियों से 3 माह में मिले 5 करोड़ रुपए

रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) के पास दाखिल किए गए दस्तावेजों में लेनेदेन का आंकड़ा है। द संडे एक्सप्रेस ने इसकी छानबीन की है।

Author Translated By Ikram बेंगलुरु | Updated: October 11, 2020 10:18 AM
Karnataka Chief Minister B S Yediyurappaकर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा। (PTI)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के पोते शशिधर मार्डी से जुड़ी दो कंपनियों द्वारा कोलकाता की सात शेल कंपनियों से करोड़ों रुपए लेने की जानकारी सामने आई है। बताया जाता है कि जुलाई 2019 में येदियुरप्पा के प्रदेश का सीएम बनने के बाद उनका पोता इन दो कंपनियों का डायरेक्टर बना जिसे तीन महीने में शेल कंपनियों से पांच करोड़ रुपए मिले।

रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) के पास दाखिल किए गए दस्तावेजों में लेनेदेन का आंकड़ा है। द संडे एक्सप्रेस ने इसकी छानबीन की है। इसके अलावा दो कंपनियों के बैंक खातों का विवरण भी एक निजी टीवी चैनल द्वारा प्रसारित किया गया था। इसे राज्य सरकार ने आठ दिनों के भीतर बंद कर करा दिया था, हालांकि इसे फिर से प्रसारित किया गया है।

पिछले महीने कन्नड़ न्यूज चैनल पॉवर टीवी ने अपनी रिपोर्ट्स की एक सीरीज में आरोप लगाया था कि ये पैसा एक निजी फर्म आरसीसीएल के लिए सरकारी मंजूरी मिलने के वादे का हिस्सा था। इसमें बेंगलुरु में 660 करोड़ रुपए की सरकारी हाउसिंग प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य मिलना था। इस प्रोजेक्ट को अभी अंतिम मंजूरी का इंतजार है।

इधर द संडे एक्सप्रेस से बातचीत में शशिधर मार्डी ने इन पैसों को एक प्रोजेक्ट के लिए कर्ज बताया जिसके लिए सभी तरह के दस्तावेज प्रस्तुत किए गए थे। उन्होंने टीवी चैनल द्वारा लगाए सभी आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि चैनल ने खराब इरादों के साथ परिवार को कलंकित करने के लिए ऐसा किया है। 30 वर्षीय मार्डी सीएम येदियुरप्पा की बेटी पद्मावती वीवाई के बेटे हैं।

मामले में आरसीसीएल के डायरेक्टर चंद्रकांत रामलिंगम ने उनसे पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दिया। हालांकि उन्होंने पिछले महीने पॉवर टीवी के खिलाफ एक पुलिस शिकायत दर्ज करवाई जिसमें बेंगलुरु विकास प्राधिकारण (बीडीए) द्वारा हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए मंजूरी में भ्रष्टाचार मामले में कथित रूप से बातचीत की रिकॉर्डिंग चलाई थी।

चैनल ने ये भी आरोप लगाया था कि येदियुरप्पा के बेटे बीवाई विजेंद्र (45) और राज्य सरकार के एक अधिकारी ने आरसीसीएल से 17 करोड़ रुपए की मांग की थी। रामलिंगम की शिकायत पर पुलिस ने 28 सिंतबर को पॉवर टीवी परिसर में छापा मारा और चैनल को सात अक्टूबर के लिए ऑफ एयर कर दिया गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आज भी खरे हैं गांव; मिट्टी की खुशबू, परंपरा, श्रम, स्वावलंबन व अपनेपन को देखना, महसूस करना हो तो गांव चलें
2 Hathras Case: CBI ने शुरू की जांच, योगी सरकार ने की थी सिफारिश
3 AAP और BJP के ब्लेम गेम के बीच फंसी हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टरों की सैलरी, मरीजों को ट्रांसफर करने के आदेश
यह पढ़ा क्या?
X