ताज़ा खबर
 

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बोले- ‘मेरी सरकार गिराने की कोशिश चल रही हैं’

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि मेरी सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। मैं अपनी सरकार बचाने की कोशिश नहीं करूंगा, बल्कि अच्छे कार्यों पर अपना ध्यान केंद्रित करूंगा।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी (फोटो सोर्स- पीटीआई)

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमार स्वामी ने शनिवार को कहा कि मेरी सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। उनका यह बयान पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया के उस बयान के एक दिन बाद आया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि वे एक बार फिर से मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। कुमार स्वामी ने कहा कि, “मैं इस बात से अवगत हूं कि मेरी सरकार को अस्थिर करने का षडयंत्र रचा जा रहा है। हालांकि, मैं अपनी सरकार बचाने की कोशिश नहीं करूंगा, बल्कि अच्छे कार्यों पर अपना ध्यान केंद्रित करूंगा।” टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, सिद्धारमैया की इस टिप्पणी के बाद ‘वह एक बार फिर मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं’, राजनीतिक गलियारों में कुमार स्वामी की सरकार गिरने की अटकलें तेज हो गई हैं। इन अटकलों के तेज होने के बाद मैसूर में सिद्दारमैया ने कहा कि, “मेरे कहने का मतलब यह था कि यदि जनता का आशिर्वाद मुझे मिलता है, तब मैं मुख्यमंत्री बनूंगा। यह पांच साल बाद ही संभव है।”

सिद्धारमैया का नाम लिए बगैर कुमार स्वामी ने कहा कि, “मैंने मीडिया के माध्यम से यह जाना कि कोई और मुख्यमंत्री बनने को तैयार हैं। भाजपा यह भविष्यवाणी कर रही है कि 3 सितंबर को नए मुख्यमंत्री शपथ लेंगे। सरकार को अस्थिर करने का प्रयास चल रहा है लेकिन वे सफल नहीं होंगे। जल्द ही मैं मुख्यमंत्री के रूप में अपने इस कार्यकाल का 100 दिन पूरा करूंगा। राज्य में बेहतर शासन व्यवस्था के लिए प्रयासरत हूं।” सिद्धारमैया पर तंज करते हुए जेडी (एस) के प्रदेश अध्यक्ष ए एच विश्वनाथन ने कहा कि, “सिद्धारामिया फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे, तो मुझे सबसे अधिक खुशी होगी। लेकिन मैं यह जानना चाहता हूं कि  आखिर वह किसके समर्थन से मुख्यमंत्री बनेंगे।”

बीजेपी सत्तारूढ़ कांग्रेस-जेडी (एस) सरकार को कमजोर करने की कोशिश कर रही है। भाजपा के एक सूत्र ने बताया कि, “विधायकों की संख्या में हम पीछे चल रहे हैं। केवल 10-12 विधायकों ने कुछ शर्तों पर इस्तीफा देने की अपनी इच्छा जताई है, लेकिन हमें कम से कम 17 की जरूरत है। पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मौत के बाद बातचीत कम हो गई है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App