scorecardresearch

Karnataka Politics: डैमेज कंट्रोल में जुटे CM? येदियुरप्पा के चुनाव न लड़ने के ऐलान से BJP में हड़कंप, मिलने पहुंचे बोम्मई

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को घोषणा की कि साल 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में वो अपने बेटे और पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष बीवाई विजयेंद्र के लिए अपनी शिकारीपुरा सीट छोड़ देंगे।

Karnataka Politics: डैमेज कंट्रोल में जुटे CM? येदियुरप्पा के चुनाव न लड़ने के ऐलान से BJP में हड़कंप, मिलने पहुंचे बोम्मई
भाजपा के वरिष्ठ नेता और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा। (फोटो सोर्स: ANI)

कर्नाटक के वरिष्ठ भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के चुनाव न लड़ने की घोषणा के बाद पार्टी में हड़कंप मचा है। इसी बीच शनिवार (23 जुलाई, 2022) को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के आवास पर पहुंच कर उनसे मुलाकात की।

बता दें, शुक्रवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा ने राजनीति से संन्यास लेने का संकेत दिया था। येदियुरप्पा ने घोषणा की थी कि वह कर्नाटक 2023 का चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनके बेटे और पार्टी के राज्य उपाध्यक्ष बी वाई विजयेंद्र शिकारीपुरा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।

येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा था, ‘मैं चुनाव नहीं लड़ रहा हूं, विजयेंद्र शिकारीपुरा से चुनाव लड़ेंगे। मैं शिकारीपुरा के लोगों से हाथ जोड़कर प्रार्थना करता हूं कि वह मुझसे बड़े अंतर से उनको विजयी बनाएं’। उन्होंने कहा था, ‘मैं आपसे हाथ जोड़कर प्रार्थना करता हूं कि उन्हें (विजयेंद्र) को एक लाख से अधिक मतों के अंतर से जीतकर हमारी सेवा को स्वीकार करें… मैं आने वाले दिनों में निर्वाचन क्षेत्र का दौरा करूंगा और विजयेंद्र सप्ताह में एक बार यहां आएंगे। बता दें, कर्नाटक में अगला विधानसभा चुनाव मई 2023 में होना है।

विजयेंद्र को जुलाई 2020 में भाजपा की कर्नाटक इकाई का उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया। वहीं मई वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में मैसुरु के वरुणा से टिकट देने से इनकार करने के कुछ समय बाद ही उन्हें भाजपा की युवा इकाई का महासचिव नियुक्त किया गया था। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा, “उन पर वहां से चुनाव लड़ने का बहुत दबाव है, लेकिन चूंकि मैं सीट खाली कर रहा हूं और चुनाव नहीं लड़ूंगा, इसलिए विजयेंद्र शिकारीपुरा से चुनाव लड़ेंगे।

79 साल के येदियुरप्पा ने शिकारीपुरा में ‘पुरसभा’ के अध्यक्ष के रूप में अपनी चुनावी राजनीति शुरू की थी। वो पहली बार 1983 में शिकारीपुरा से विधानसभा के लिए चुने गए थे और वहां से आठ बार चुनाव जीते। येदियुरप्पा ने घोषणा की कि वह अपने शिकारीपुरा निर्वाचन क्षेत्र को खाली कर देंगे। वहीं बसवराज बोम्मई ने कहा कि येदियुरप्पा कभी सेवानिवृत्त नहीं होंगे।

बोम्मई से यह पूछे जाने पर कि येदियुरप्पा की अनुपस्थिति में पार्टी किसके नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी, बोम्मई ने कहा, “येदियुरप्पा कभी सेवानिवृत्त नहीं होंगे। अगले चुनाव में उनकी ताकत और मार्गदर्शन रहेगा।”

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट