ताज़ा खबर
 

कर्नाटक चुनाव: गुलाम नबी आजाद बोले- भीड़ जुटाकर कांग्रेस उम्‍मीदवारों को वोट दें मुसलमान

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के करीब आते ही चुनाव प्रचार ने भी जोर पकड़ लिया है। चुनाव आचार संहिता लागू होने की स्थिति में धर्म, जाति या समुदाय के आधार पर वोट देने की अपील नहीं की जा सकती है। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कलबुर्गी में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए मुस्लिमों को एकजुट होकर कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने की अपील की है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद। (फाइल फोटो)

कर्नाटक विधानसभा चुनाव की सरगर्मियां जोरों पर हैं। चुनाव में अब सिर्फ 9 दिन शेष हैं, ऐसे में सत्तारूढ़ कांग्रेस, विपक्षी भाजपा और जनता दल सेक्युलर के नेता चुनाव प्रचार में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद ने चौंकाने वाला बयान दिया है। उन्होंने कलबुर्गी में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मुसलमानों को एकजुट होकर कांग्रेस के पक्ष में मतदान करना चाहिए। राज्यसभा सदस्य का यह बयान चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में आ सकता है। आचार संहिता लागू होने की स्थिति में धर्म, जाति या किसी समुदाय विशेष का उल्लेख करते हुए वोट देने की अपील नहीं की जा सकती है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने जनसभा में उपस्थित लोगों से कहा कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिए इंडीकेटर होंगे। गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘भाजपा को किसी भी हालत में कर्नाटक की सत्ता में नहीं आने देना चाहिए। मुसलमानों को बड़ी तादाद में एकजुट होकर कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में मतदान करना चाहिए।’

गुलाम नबी आजाद मंगलवार (1 मई) को गुलबर्ग दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार अल्लामा प्रभु पाटिल के पक्ष में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘यदि आप हिंदुओं की आलोचना करेंगे तो भाजपा सत्ता में आ जाएगी। ऐसे में हिंदुओं की आलोचना करने के बजाय आप कांग्रेस के पक्ष में वोट कीजिए।’ इससे पहले उन्होंने गुलबर्ग उत्तर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी कनीज फातिमा के पक्ष में भी एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया था। वहां उन्होंने कहा था, ‘पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 17 वर्षों तक देश पर शासन किया था। आज लोकसभा अध्यक्ष, रक्षा और विदेश मंत्री महिलाएं हैं। ऐसे में कनीज फातिमा को भी निर्वाचित होकर विधायक बनना चाहिए।’ मालूम हो कि कर्नाटक में 12 मई को एक चरण में विधानसभा के चुनाव होने हैं। मतगणना 15 मई को होंगे। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के नेतृत्व में जहां कांग्रेस सत्ता में वापसी का प्रयास कर रही है, वहीं भाजपा पांच साल के बाद एक बार फिर से कर्नाटक में सरकार बनाने की जुगत में है। कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और भजापा की ओर से सीएम पद के चेहरा पूर्व मुख्यमंत्री बीएस. येदियुरप्पा लगातार चुनाव प्रचार कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App