ताज़ा खबर
 

Kanpur: परचून की दुकान पर बिक रही जहरीली शराब पीने से दो की मौत, दो ने गंवाई आंखों की रोशनी

कानपुर में एक बार फिर जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। यहां पर परचून की दुकान पर खुलेआम शराब बेची जा रही थीं।

kotwali ghatampurकानपुर में जहरीली शराब पीने से हुई दो लोगों की मौत फोटो सोर्सः स्थानीय

जहरीली शराब का कहर कानपुर में एक बार फिर से देखने को मिला है। जहरीली शराब पीने से दो ग्रामीणों की मौत हो चुकी है। वहीं दो लोगों ने अपनी आंखों की रोशनी गंवा दी है। शराब पीने से बीमार लोगों का इलाज शहर के अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है। परचून की दुकान पर खुलेआम शराब बेची जा रही थीं। इस घटना के बाद पुलिस प्रशासन, जिला प्रशासन और आबकारी विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। इसके साथ ही घटना के चलते आसपास के ग्रामीणों में गुस्सा है, जिसके चलते गांव में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। एसएसपी कानपुर ने चौकी इंचार्ज और दो सिपाहियों को निलंबित किया है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक घाटमपुर कोतवाली क्षेत्र स्थित साढ़ चौकी अंतर्गत सुखैयापुरवा गांव और आसपास के कुछ लोगों ने शुक्रवार को मिलावटी जहरीली शराब पी थी। शुक्रवार देर रात तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां उपचार के दौरान वीरेन्द्र सिंह यादव और शिवशंकर की शनिवार दोपहर बाद मौत हो गई।

मृतक वीरेन्द्र के रिश्तेदार ने बताया कि सुखैयापुरवा गांव में पान की गुमटी और परचून की दुकानों में पुलिस की मदद से खुले आम देशी शराब बेची जाती है। शुक्रवार को वीरेन्द्र ने परचून की दुकान से खरीद कर पी थी। शराब पीने के बाद ही उसकी तबीयत बिगड़ गई थी। इसके साथ ही गांव के ही शिव शंकर, नरेन्द्र और बाबू नामक शख्स की भी तबीयत बिगड़ गई। शनिवार को उपचार के दौरान वीरेन्द्र और शिव शंकर की मौत हो गई है। नरेन्द्र और बाबू की आंखों की रोशनी चली गई है।

एसएसपी अनंत देव ने कहा, ‘मैंने और डीएम ने घटनास्थल का निरीक्षण किया है। तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। अब तक की छानबीन में यह बात प्रकाश में आई है कि गौरीखतरा में एक शराब का ठेका है वहां पर राहुल नाम का शख्स और उसका भाई वहां पर सेल्समैन थे l उसकी गांव में परचून की दुकान भी थी और सेल्समैन होने की वजह से वो शराब ठेके से शराब लाकर गांव में बेचता था। इस मामले में लापरवाही के चलते चौकी इंचार्ज देवेन्द्र सिंह और दो सिपाहियों को सस्पेंड किया गया है।

 

मई 2018 में जहरीली शराब पीने से हुई थीं 17 मौतेंः मई 2018 में सचेंडी थाना क्षेत्र स्थित दूल गांव में जहरीली शराब पीने से सात ग्रामीणों की मौत हुई थी। इसके साथ ही कानपुर देहात के मडौली गांव में जहरीली शराब पीने से 10 ग्रामीणों ने दम तोड़ दिया था। जहरीली शराब से 17 मौतें होने के बाद लगभग एक दर्जन से अधिक दोषियों पर पुलिस ने कार्रवाई भी की थी। साथ ही जिला आबकारी अधिकारियों पर भी कार्रवाई की गई, जिसकी जांच अभी भी चल रही है।

Next Stories
1 Jammu-Kashmir: अगवा नहीं हुआ था बडगाम से गायब हुआ जवान, आतंकियों को यूं दिया था चकमा, ये है पूरा मामला
2 पीएम किसान योजना का पैसा खाते में तो आया, पर दो दिन बाद हो गया गायब
3 Air Strike पर बोले राजनाथ- धरती, पाताल और आसमान भी हमें नहीं रोक सकते, हम जानते हैं कितने मजबूत हैं PM मोदी
चुनावी चैलेंज
X