ताज़ा खबर
 

कानपुर शेल्टर केसः 57 लड़कियों को कोरोना, 5 गर्भवती और एक मिली HIV+; योगी सरकार, DGP को NHRC का नोटिस

आयोग ने पाया, ''अगर मीडिया रिपोर्ट में आए तथ्य सत्य हैं तो प्रथम दृष्टया यह विश्वास करने लायक है कि जनसेवक पीड़ित लड़कियों को सुरक्षा मुहैया कराने में विफल रहे हैं और साफ तौर पर राज्य के संरक्षण में उनके जीवन, स्वतंत्रता और सम्मान के अधिकार की रक्षा में लापरवाही बरती गई।''

Author लखनऊ | Updated: June 22, 2020 11:00 PM
Kanpur, Shelter Home Case, Yogi Adityanathउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः विशाल श्रीवास्तव।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में एक सरकारी आश्रयगृह में 57 नाबालिग लड़कियों के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने की खबरों पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली BJP सरकार और राज्य के पुलिस प्रमुख को नोटिस जारी किया है। खबरों का हवाला देते हुए आयोग ने कहा कि लड़कियों में कुछ समय से लक्षण दिखाई दे रहे थे लेकिन उन्हें परीक्षण के लिए अस्पताल ले जाने में ”देरी” की गई।

आयोग ने एक बयान में कहा, ” राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मीडिया में आई उन खबरों का स्वत: संज्ञान लिया है जिसमें उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में सरकार द्वारा संचालित एक बाल आश्रयगृह में 57 नाबालिग लड़कियों के कोविड-19 संक्रमित पाए जाने के बारे में बताया गया है।”

आयोग ने पाया, ”अगर मीडिया रिपोर्ट में आए तथ्य सत्य हैं तो प्रथम दृष्टया यह विश्वास करने लायक है कि जनसेवक पीड़ित लड़कियों को सुरक्षा मुहैया कराने में विफल रहे हैं और साफ तौर पर राज्य के संरक्षण में उनके जीवन, स्वतंत्रता और सम्मान के अधिकार की रक्षा में लापरवाही बरती गई।”

उन्होंने कहा कि इसके मुताबिक, उसने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव को नोटिस जारी कर लड़कियों की स्वास्थ्य स्थिति, चिकित्सा उपचार और परामर्श को लेकर विस्तृत रिपोर्ट तलब की है।

बयान के मुताबिक, इस मामले में दर्ज प्राथमिकी और अब तक की गई जांच को लेकर उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को रिपोर्ट सौंपने के लिए भी नोटिस जारी किया गया है। बता दें कि संक्रमित लड़कियों में से पांच गर्भवती हैं और एक को एड्स है। कानुपर जिला प्रशासन ने रविवार को सफाई दी थी कि आश्रयगृह में लाए जाने के समय ही लड़कियां गर्भवती थीं।

इसी बीच, समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कानपुर के सरकारी बालिका संरक्षण गृह में रखी गई सात लड़कियों के गर्भवती होने के मामले की जांच की मांग की है।

अखिलेश ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा “कानपुर के सरकारी बाल संरक्षण गृह से आई ख़बर से प्रदेश में आक्रोश फैल गया है। कुछ नाबालिग लड़कियों के गर्भवती होने का गंभीर खुलासा हुआ है। इनमें 57 कोरोना वायरस से और एक एड्स से भी ग्रसित पाई गयी है, इनका तत्काल इलाज हो।” प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने मांग की कि सरकार इन लड़कियों का शारीरिक शोषण करने वालों के ख़िलाफ़ तुरंत जांच कराये।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Rajya Sabha Elections में दग़ाबाज़ी करने वालों पर ऐक्शन: CPM विधायक सस्पेंड, NCP एमएलए को नोटिस
2 ऑनर किलिंग: हाई कोर्ट में बरी हुआ उम्रक़ैद पाया पिता, बेटी बोली- बहुत नाइंसाफ़ी है ये
3 किसान बन दुकान पर रेड डालने पहुंच गए मंत्री, मचा हड़कंप, जबरन छुट्टी पर भेजा गया अफसर
ये पढ़ा क्या...
X