ताज़ा खबर
 

विकास दुबे ने शहीद सीओ पर 22 साल पहले भी चलाई थी गोली, तब बीएसपी नेताओं ने उसके लिए दिया था धरना

उज्जैन से कानपुर लाए जाने के बीच एसटीएफ की पूछताछ में विकास दुबे ने खुद ये जानकारी दी।

vikas dubey deadमध्य प्रदेश से गिरफ्तारी के बाद एक एनकाउंटर में विकास दुबे की मौत हो गई। (PTI)

उत्तर प्रदेश में कानपुर के बिकरू गांव में पुलिसकर्मियों पर हमले से जुड़ा एक बड़ा खुलासा हुआ है। इस हमले में शहीद हुए सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा से विकास दुबे की करीब 22 साल पुरानी दुश्मनी थी। मिश्रा तब कल्याणपुर थाने में सिपाही थे और दुबे से उनका आमना-सामना हुआ था। उस वक्त दोनों ने एक दूसर के ऊपर बंदूक भी तान दी थी और फायर किया। मगर दोनों में से किसी की बंदूक से फायर नहीं हो पाया था। इसके बाद देवेंद्र ने विकास को खूब पीटा और हवालात में बंद कर दिया।

उज्जैन से कानपुर लाए जाने के बीच एसटीएफ की पूछताछ में विकास दुबे ने खुद ये जानकारी दी। अधिकारियों के मुताबिक साल 1998 में विकास दुबे स्मैक की तीस पुड़िया और बंदूक के साथ कल्याणपुर से गिरफ्तार हुआ था। दुबे तब के थानेदार हरिमोहन यादव से थाने में ही भिड़ गया। ये देखकर देवेंद्र मिश्रा विकास से भिड़ गए। अधिकारियों के मुताबिक तब से ही विकास दुबे सीओ मिश्रा से रंजिश मानने लगा।

Coronavirus in India Live Updates

मिश्रा को जब बिल्हौर का चार्ज मिला तो दुबे समझ गया कि अब उसे परेशानी होगी। ऐसे में उसने थानेदार विनय तिवारी के साथ साठगांठ की और सीओ मिश्रा जब अपनी टीम के साथ बिकरू गांव में दबिश देने गए तो विनय ने मुखबिरी कर दी। शहीद देवेंद्र मिश्रा को करीब देढ़ साल पहले बतौर सीओ बिल्हौर की जिम्मेदारी मिली थी।

खास बात है कि तब तत्कालीन बीएसपी विधायक भगवती सागर और राजाराम पाल ने थाने में पहुंचकर खुद विकास दुबे की पैरवी की थी। जब पुलिस ने दोनों की बात नहीं मानी तो बसपा नेता थाने में ही धरना देने लगे। इससे साफ है कि विकास की शुरू से राजनीति में अच्छी पकड़ थी।

इधर कानपुर के नजदीक कुख्यात अपराधी विकास दुबे के एक कथित मुठभेड़ में मारे जाने के एक दिन बाद उसके चार सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया। उसके दो सहयोगियों को महाराष्ट्र और दो को मध्यप्रदेश से गिरफ्तार किया गया। साथ ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) उसकी संपत्तियों और लेन-देन के ब्यौरे की जांच करेगा।

विकास की अपराध फाइल को अधिकारियों ने खंगालना शुरू कर दिया है। पुलिस ने उसकी पत्नी और बेटे को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था जो उसके अंतिम संस्कार के बाद लखनऊ स्थित अपने घर लौट आए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मध्य प्रदेश के रास्ते पर राजस्थान? सीएम अशोक गहलोत और डिप्टी सीएम सचिन पायलट में कलह गहराया, केंद्रीय नेतृत्व को सता रहा सत्ता जाने का डर
2 विक्रमशिला पुल के समानांतर पुल निर्माण की मिली मंजूरी, 1116.72 करोड़ रुपए खर्च होंगे
3 पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को बड़ी जिम्मेदारी, बना दिया गया गुजरात कांग्रेस कमेटी का कार्यकारी अध्यक्ष
ये पढ़ा क्या?
X