पिता के कंधे पर बच्चे की मौत की रिपोर्ट पीएमओ को भेजी - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पिता के कंधे पर बच्चे की मौत की रिपोर्ट पीएमओ को भेजी

मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल में पिता के कंधे पर बुखार से पीड़ित बच्चे की मौत मामले की जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दी।

Author कानपुर | September 2, 2016 9:28 AM
अस्पताल परिसर में सुनील कुमार 12 साल के अपने बेटे अंश को कंधे पर लादे हुए। (Photo-ANI)

मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल में पिता के कंधे पर बुखार से पीड़ित बच्चे की मौत मामले की जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दी। अब प्रदेश शासन इस रिपोर्ट के आधार पर अस्पताल के दोषी डाक्टरों और अन्य कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश देगा। इस मामले में अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को तो पहले ही निलंबित किया जा चुका है। सूत्रों का कहना है कि अब जांच रिपोर्ट के आधार पर घटना वाले दिन ड्यूटी पर तैनात डाक्टरों और कर्मचारियों पर गाज गिरनी तय है।

कानपुर के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने गुरुवार को बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी इस बच्चे की खबर मीडिया में आने के बाद इस मामले की जांच रिपोर्ट जिला प्रशासन से मांगी थी। इस मामले की जांच को लेकर बनाई गई अतिरिक्त सिटी मजिस्ट्रेट और अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा अधिकारी की दो सदस्यीय समिति ने गुरुवार को अपनी जांच रिपोर्ट उन्हें सौंप दी। जिलाधिकारी ने कहा कि उन्होंने रिपोर्ट की एक प्रति प्रधानमंत्री कार्यालय और एक प्रति मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दी है। अब मुख्यमंत्री कार्यालय या प्रदेश शासन से जांच रिपोर्ट के आधार पर जो भी कार्रवाई का आदेश आएगा, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन के अधिकारी अब रोज अस्पतालों का दौरा कर वहां की व्यवस्थाओं को देख रहे हैं। रविवार को मरियमपुर चौराहा नजीराबाद के रहने वाले सुनील कुमार अपने 12 वर्षीय पुत्र अंश को बुखार के चलते जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के हैलट अस्पताल के आपातकालीन वार्ड लेकर पहुंचे थे।

उनका आरोप है कि अस्पताल के डाक्टर उन्हें एक विभाग से दूसरे विभाग भटकाते रहे और इस दौरान बच्चे की मौत हो गई। उनका आरोप है कि अगर डाक्टरों ने समय पर उनके बच्चे को इलाज दे दिया होता तो उनका बच्चा बच सकता था। लेकिन मेडिकल कॉलेज के डाक्टरों का कहना था कि बच्चे को जब अस्पताल लाया गया था तो उसकी मौत हो चुकी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App