ताज़ा खबर
 

कानपुर शूटआउटः पुलिस सेवा में जाकर गैंगस्टरों को उनकी जगह पहुंचाउंगी, एनकाउंटर में शहीद डिप्टी एसपी की बेटी बोली

देवेंद्र कुमार मिश्रा (59) उन आठ पुलिसकर्मियों में से एक हैं जो शुक्रवार को कानपुर जिले के बिकरु गांव में बदमाशों संग मुठभेड़ में मारे गए थे।

Author Translated By Ikram कानपुर | Updated: July 6, 2020 10:25 AM
Deputy SP daughterडिप्टी एसपी देवेंद्र कुमार मिश्रा की बेटियां वैशाली और वैष्णवी अपने एक रिश्तेदार के साथ। (Express Photo by Vishal Srivastav)

कानपुर शूटआउट में शहीद हुए डिप्टी एसपी देवेंद्र कुमार मिश्रा की अस्थियां रविवार को जैसे ही गंगा में विसर्जित की गई, तब उनकी बेटी वैष्णवी ने भी एक निर्णय लिया। अब वो अपने डॉक्टर बनने के सपने को पीछे छोड़ देंगी और अपने पिता की तरह एक पुलिस अधिकारी बनेंगी। 21 वर्षीय वैष्णवी ने कहा कि मैं विकास दुबे जैसे अपराधियों को उनकी जगह पहुंचाउंगी। बीएससी अंतिम वर्ष की छात्रा ने आगे कहा कि उनकी आंखें दुख और गुस्से से लाल हो गईं। मेरी 18 वर्षीय छोटी बहन वैशर्दी 12वीं कक्षा में पढ़ती हैं और सिविल सेवा में जाना चाहती हैं। अब हम दोनों मिलकर वो सपने पूरे करेंगे जो हमारे पिता ने देखे थे।

देवेंद्र कुमार मिश्रा (59) उन आठ पुलिसकर्मियों में से एक हैं जो शुक्रवार को कानपुर जिले के बिकरु गांव में बदमाशों संग मुठभेड़ में मारे गए थे। अपनी टीम के साथ डिप्टी एसपी जब दबिश के लिए पहुंचे तो बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। बता दें कि रविवार को कानपुर के स्वरूप नगर में स्थित शहीद डिप्टी एसपी के घर मौजूद परिजनों खूब नाराजगी थी। उनके कुछ सवाल थे। जैसे विकास दुबे को पकड़ने के लिए उनके पिता के आने की खबर किसने दी? रेड के दौरान गांव की बिजली क्यों काट दी गई?

Weather Forecast Today Live Updates

परिवार का कहना है कि मिश्रा ने पूर्व में एक अधीनस्थ अधिकारी पर अनुशासनहीनता और कई अनियमितताओं के आरोप लगाए थे। वो पुलिस अधिकारी हैं विनय तिवारी जो चौबेपुर पुलिस स्टेशन के एसओ हैं और बिकरु गांव उनके मातहत ही आता है। आपको बता दें कि विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया हैं और उनके कुख्यात अपराधी विनय तिवारी से संबंधों की जांच की जा रही है।

इधर द इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कानपुर के पूर्व एसएसपी अनंत देव ने इस बात की पुष्टि की कि मिश्रा ने एसओ के व्यवहार के बारे में शिकायत की थी। उन्होंने कहा कि सीनियर्स और जूनियर्स के बीच इस तरह के मतभेद लगभग हर पेशे में आम हैं… मुझे नहीं लगता कि इस घटना से कोई सीधा संबंध था। देव वर्तमान में स्पेशल टास्क फोर्स के डीआईजी हैं। हालांकि मिश्रा के बेटियों की स्पष्ट मांग है कि मामले की सीबीआई जांच की जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना के बढ़ते प्रकोप से दहशत में व्यापारी, 6 जुलाई से शाम 5 बजे तक ही बाजार खोलने का लिया फैसला
2 Coronavirus: अनानास, नींबू के जूस के लिए आवंटित किए थे 1 करोड़, अब अपनी मां को अदरक वाला गर्म पानी पिलाते दिखे सीएम
3 कानपुर शूटआउटः विकास दुबे ने घर के नीचे बना रखा था बंकर, दीवार में चुनवा कर रखता था असलहा-बारूद
ये पढ़ा क्या...
X