ताज़ा खबर
 

मुजफ्फरनगर दंगों के दागी संगीत सोम करेंगे कैराना का दौरा, हुकुम सिंह बोले-न आएं तो ही अच्‍छा

संगीत सोम बीजेपी क फायरब्रांड नेता माने जाते हैं।

Author नई दिल्‍ली | June 16, 2016 3:01 PM
बीजेपी विधायक संगीत सोम और सांसद हुकुम सिंह।

यूपी के शामली जिले के कैराना कस्बे से हिंदू परिवारों के एक समुदाय विशेष से डरकर पलायन करने का दावा करने वाले बीजेपी सांसद हुकुम सिंह ने अब कहा है कि वे नहीं चाहते कि उनकी ही पार्टी के विधायक संगीत सोम कस्‍बे में आएं। हुकुम सिंह ने एक चैनल से बातचीत में कहा कि संगीत सोम तेजतर्रार नेता हैं। उनका गुस्‍सा होना स्‍वाभाविक है, लेकिन फिलहाल यहां शांति बनाए रखे जाने की जरूरत है। बता दें कि संगीत सोम बीजेपी क फायरब्रांड नेता माने जाते हैं। मुजफ्फरनगर दंगों के मामले में भी उनका नाम आ चुका है। उनका 17 जून को कैराना पहुंचने का कार्यक्रम है।

READ ALSO: पलायन पर विवाद: कैराना के बाद बीजेपी सांसद ने जारी की एक और जगह की लिस्‍ट, पुराने रुख से यू-टर्न भी लिया

बता दें कि बुधवार को ही हिंदू परिवारों के कथित पलायन की जांच के लिए भाजपा की एक टीम कैराना पहुंची। भाजपा की इस टीम में डॉ. राधामोहन दास अग्रवाल, बागपत सांसद डॉ. सतपाल सिंह, सहारनपुर सांसद आरएलपी शर्मा, बुलंदशहर सांसद डॉ. भोला सिंह, अलिगढ़ सांसद सतिश गौतम, सांद धर्मेंद्र कश्यप और यूपी के पूर्व डीजीपी बृज लाल शामिल थे। हालांकि, उनके जाने के बाद मुस्‍ल‍िम परिवारों ने इस बात का विरोध किया था। कुछ दूसरे राजनीति दल भी अपने प्रतिनिधिमंडल यहां भेजने की तैयारी कर रही हैं।

READ ALSO: BJP ने लिया फैसला- पूरे यूपी में उठाया जाएगा कैराणा से हिंदुओं के कथित पलायन का मुद्दा, अमित शाह ने सांसद हुकुम सिंह को दी छूट

Kairana-2-620x400

हुकुम सिंह ने 346 लोगों की एक लिस्ट दिखाई थी जिसके हवाले से कहा गया था कि वे सभी हिंदू लोग मुस्लिम बहुल इलाके कैराना से घर छोड़कर जाने को मजबूर हुए हैं। हालांकि, बाद में लिस्ट में कई खामियां देखने को मिली। इसमें कई नाम ऐसे हैं जो मर चुके हैं, वहीं कुछ लोगों ने 10 साल पहले कैराना छोड़ दिया था। साथ ही कई लोग नौकरी या बच्‍चों की शिक्षा के चलते बाहर चले गए। भाजपा सांसद ने आरोप लगाया था कि 346 हिंदू मुसलमानों की धमकियों और गुंडागर्दी से परेशान होकर कैराना छोड़ गए। इंडियन एक्‍सप्रेस ने इस लिस्‍ट में 22 नामों का पता लगाया। इनमें से पांच मर चुके हैं। चार अच्‍छे अवसरों की तलाश में कैराना छोड़कर गए, 10 परिवार 10 साल पहले गए जबकि तीन परिवार स्‍थानीय अपराधियों के डर से बाहर चले गए।

READ ALSO: कैराना: भाजपा की टीम का मुसलमानों ने किया विरोध, अब पांच विपक्षी पार्टियां मिलकर भेजेंगी अपना दल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App